बजरंगी के हत्या की पटकथा पहले ही लिखी जा चूकी थी

बागपत जिला जेल की तन्हाई बैरक में कुल दस कोठरियां बनी हुई हैं, जो रविवार को दस कुख्यात बदमाशों से भरी हुई थीं। देर शाम जब मुन्ना बजरंगी को जेल में दाखिल किया गया तो सवाल उठा कि उसे तन्हाई बैरक में किसके साथ रखा जाए। बताया गया कि खुद मुन्ना बजरंगी ने विक्की सुन्हेड़ा के नाम की पेशकश की थी। इस पर उसे विक्की की कोठरी में भेज दिया गया। रात उसने वहीं गुजारी और भोर से पहले ही उठकर चहलकदमी के बाद नहाने की तैयारी करने लगा था। एसपी बागपत जयप्रकाश ने भी बताया कि मुन्ना बजरंगी को विक्की सुन्हेड़ा की कोठरी में रखा गया था तथा उस रात तन्हाई बैरक की सभी कोठिरयां फुल थीं।

मुन्ना बजरंगी के जेल मे सिफ्ट होने से एक दिन पुर्व दो लग्जरी गाडियों कुछ सफेदपोश बागपत की जिला जेल में शुनील राठी से मिलने आये थे और बिना किसी कानूनी औपचारिकता के घंटो बागपत जिला जेल में उन्होंने शुनील राठी से मुलाकात और बात किया। लगजरी गाडियों से आने वाले सफेदपोश लोग कौन थे ?

Also Read:  भाजपा विधायक के बन्द राइस मिल से 66 पेंटी शराब बरामद

फोन आया, बात हुई और अचानक बदल गया राठी का मिजाज

मुन्ना बजरंगी हत्याकांड के घटनाक्रम को लेकर भी कई तरह की बातें सामने आ रही हैं। इस बात की तस्दीक अधिकारी भी कर चुके हैं कि वारदात के पहले मुन्ना बजरंगी, सुनील राठी व कई अन्य कुख्यात बदमाश स्टूल पर बैठे चाय पी रहे थे। इस दौरान किसी बात को लेकर मुन्ना बजरंगी व सुनील राठी में गर्मागर्मी हुई और बाद में सुनील राठी ने पिस्टल निकालकर बजरंगी को गोलियों से भून दिया। इससे इतर यह भी कहा जा रहा है कि स्टूल पर बैठने से पहले सुनील राठी के पास जो माबाइल फोन था, उसपर कॉल आई थी। इसलिए वह अलग चला गया था। चंद मिनट बात करने के बाद जब सुनील राठी लौटा तो उसका मिजाज पूरी तरह से बदला हुआ था। उसने मुन्ना बजरंगी पर उसकी हत्या की सुपारी देने का आरोप लगाया और जैसे ही बजरंगी ने उल्टा उस पर सुपारी देने का आरोप लगाया तो सुनील राठी ने पिस्टल निकालकर मुन्ना पर गोलियां बरसा दीं।

Also Read:  गाजीपुर टुड़े- पुर्वांचल में 2014 में नोटा का कहर

हत्या के बाद जश्न मनाने वाले बदमाशों पर भी निगाह

मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद कहा जा रहा है कि जेल में जश्न मनाया गया। इसमें नामजद हत्यारोपी व उसके साथी बदमाश भी शामिल थे। इससे उनके हत्याकांड में शामिल होने का शक है। अहाते के गटर से मिली मैगजीन और कारतूस भी इस और ही इशारा कर रहे है। क्योंकि दो मैग्जीन खाली करने में समय लगता है। एक बंदी का 30 से अधिक कारतूस अपने पास रखना सम्भव नहीं है। इस सब पर पुलिस की नजर है।

Also Read:  दुर्घटना में एक छात्रा की मौत ,एक गंभीर रूप से घायल-गाजीपुर टुडे

तन्हाई बैरक के गटर से मिला बीयर और शराब की बोतलों का जखीरा

बजरंगी की हत्या के बाद पिस्टल बरामद करने के लिए पुलिस प्रशासन ने जेल के गटर साफ कराए थे। तनहाई बैरक के एक गटर से हत्या में प्रयोग की गई पिस्टल, मैगतीन और 22 जीवित कारतूस मिले, तो भारी तादात में बीयर और शराब की खाली बोतलें भी मिली। इससे साफ प्रतीत हो रहा है कि जेल में कुख्यातों को ऐश आराम की छूट दी जा रही है।