भाजपा के हाँथ से फिसलता गुजरात

1105

image

जिस गोधरा और गुजरात ने अमित शाह और नरेन्द्र मोदी को सत्ता के शीर्ष पर सी.एम. से पी.एम. बनाया , वह गुजरात अब भाजपा के हाँथ से फिसलता दिख रहा है । गोधरा कांड के बाद गुजराती मुस्लमानो के साथ- साथ पुरे भारत का मुस्लमान अमित शाह के साथ साथ नरेंद्र मोदी भयभीत रहने लगा । गुजरात के अगडे,पीछडे के साथ सामान्य जातियों ने गुजरात मे भाजपा का जमकर साथ दिया ।
गुजरात मे भाजपा का  खेल बिगाड़ने का काम किया , पटेलो द्वारा आरक्षण की माँग किया जाना । पटेल आरक्षण आन्दोलन से जिस बर्बरता से गुजरात पुलिस ने निपटा वह ,गुजरात के पटेलो को काफी गहरे जख्म दे गया । पटेल आरक्षण आन्दोलन के नेता हार्दिक पटेल पर जिस तरह पुलिस ने ताबड़तोड़ बिभिन्न धाराओं मे मुकदमा पंजीकृत करने के साथ-साथ देशद्रोही तक करार दे डाला वह गुजरात के सबसे ताकतवर समुदाय को नाराज करडाला ।
गुजरात के दलित गोधरा कांड के बाद 70 % मत गुजरात बीजेपी के पक्ष मे पडने लगा , यह मत पहले काँग्रेस के पक्ष मे जाता था। गुजरात मे गौरक्षको ने जिस तरह से दलितों को पीट- कर मारा , उस से दलितों का भाजपा से मोह भंग होगया है। गुजरात मे पटेल समुदाय के पास लगभग 21 % मत है । इसी तरह  लगभग 24 % मत दलतों के है । अल्पसंख्यक मतदाताओं की संख्या लगभग 13 % है।
8 सितंबर को अमित शाह की रैली का सत्यानाश होना और अमित शाह का मंच से मात्र 6 मिनट कीसी तरह से बोलपाना अपने आप मे गुजरात का बीजेपी के हाँथ से फिसलने का संकेत है । मुख्यमंत्री के जनसभा मे कुर्सी को एक दुशरे मे रस्सी से बांधना , गुजरात मे बीजेपी के हालत साफ बयां करता हैं।

Play Store से हमारा App डाउनलोड करने के लिए नीचे क्लिक करें- Qries