मऊ-एमएलसी एके शर्मा ने सम्हाला वाराणसी की कमान

(अरस्तु मेल न्यूज़)
मऊ: पूर्व आईएएस अधिकारी व प्रधानमंत्री मोदी के विश्वस्त सहयोगी तथा विधानपरिषद सदस्य अरविंद कुमार शर्मा ने अपनी सियासी अहमियत के साथ-साथ जनहित के मुद्दे पर किस प्रकार से अग्रेसिव भूमिका निभाते हैं।
इसकी बानगी अब पूर्वांचल की जनता को भी देखने को मिलने लगी हैं। पश्चिम बंगाल चुनाव में भाजपा का परचम लहराने पहुंचे श्री शर्मा ने अब प्रधानमन्त्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में बढ़ रहें कोरोना के मामलों पर प्रभावी नियंत्रण के लिये कड़ा एक्शन प्लान तैयार किया है।
उन्होँने वाराणसी में कोविड 19 के खतरे को कम करने के लिये मण्डलायुक्त, पुलिस आयुक्त एवं जिलाधिकारी की बैठक ली और लोगों को महामारी से बचाने के लिये जांच कार्य और इलाज तेज करने के सख्त निर्देश जारी किये।
उन्होने इस मौके पर कोविड अस्पतालों एवं वहां की व्यवस्था का निरीक्षण करने के उपरांत श्री शर्मा ने बताया कि कोविड नियन्त्रण के लिये वे यहां पर कैम्प किये हुए हैं। और किसी भी हालत में वाराणसी में कोरोना का नियंत्रण हो इसके लिये हर एहतियाती उपाय करने से पीछे नहीं हटेगे।
गौरतलब हैं की पूर्व नौकरशाह एवं पीएम मोदी की टीम के सदस्य रहे एके शर्मा को चार माह पूर्व उत्तरप्रदेश में विधानपरिषद सदस्य बनाया गया था। लेकीन कुछ लोग उनके सियासी सफर को विराम देने की चर्चा कर रहे थे। लेकीन प्रधानमन्त्री के सबसे करीबी रहें श्री शर्मा की कोरोना काल में सक्रियता एवं प्रशासनिक तेवर दिखाने से अब लोग एक बार फिर उनकी हैसियत का बखान करना शुरु कर दिये हैं।

Also Read:  गाजीपुर नगर पालिका की नई और लाजवाब पहल

श्री शर्मा बनारस ही नहीं बल्कि अपने गृह जनपद मऊ में भी कोरोना से बचाव का कार्य कर रहें हैं। उन्होंने समाजसेवी व राजनीतिक चिंतक नेसार अहमद की आरटीपीसीआर जांच की मांग को मानकर यह संदेश देने काम किया कि उनकी कार्य अतूलनीय हैं।