मऊ-मुख्तार अंसारी के एक और करीबी पर पुलिसिया कार्यवाही

0
544

मऊ-पुलिस के द्वारा अपराधिक माफिया एवं उनके गुर्गों के विरुद्ध चलाए जा रहे कार्यवाही के क्रम में गुरुवार को मुख्तार अंसारी गिरोह आईएस 191 के अत्यंत नजदीकी व मुख्तार अंसारी के साथ मन्ना सिंह हत्याकांड 2009 के गवाह राम सिंह मौर्य एवं सुरक्षाकर्मी सतीश की हत्या मे अभियुक्त रहे त्रिदेव कंस्ट्रक्शन,त्रिदेव कोल डिपो व त्रिदेव ग्रुप के पूर्व मालिक व कोयला माफिया राजेश सिंह उर्फ राजन सिंह पुत्र रामबृक्ष सिंह निवासी अहिलाद जनपद मऊ की लगभग 35 लाख 23 हजार 600 रूपये की अपराध व अवैध रूप से अर्जित की गई संपत्ति को धारा 14 (1) गैंगस्टर एक्ट के तहत जब्त की गई है। सीओ सिटी मऊ सदर के नेतृत्व में थानाध्यक्ष सराय लखंसी, मऊ कोतवाली वह दक्षिण टोला पुलिस द्वारा राजेश सिंह उर्फ राजन सिंह पुत्र रामबृक्ष सिंह के द्वारा अवैध रूप से अर्जित किए गए ग्राम खरगजेपुर तहसील सदर स्थित आराजी संख्या 917 क में 5.5 एयर,आराजी संख्या 917 घ में 38 एयर,अराजी संख्या 917 ड़ मे 11 एयर, व अराजी संख्या 917 ज मे 22 एयर, कुल 0 4 गाटा 76.5 एयर यानि 189 कडी़ यानि 766 वर्ग मीटर भूखंड को गैंगस्टर एक्ट की धारा 14(1) के तहत जब्त किया गया है। वर्ष 2009 हुए मन्ना सिंह हत्याकांड मे गवाह राम सिंह मौर्य व उनके सुरक्षा मे तैनात आरक्षी सतीश की ताबड़तोड़ गोली मारकर हत्या कर दिया गया था।जिसके संबंध मे थाना दक्षिण टोला मे एफआईआर संख्या 399-2010 पंजीकृत किया गया था।इस अभियोग में मुख्तार अंसारी के साथ राजन सिंह सह अभियुक्त था।पिछले दो दशक से राजन सिंह व उनका भाई उमेश सिंह द्वारा मुख्तार अंसारी व गिरोह के मुख्य सरणदाता व आर्थिक मददगार के रूप मे अति सक्रिय थे।। ऐसी संख्या गैंगस्टर एक्ट के अंतर्गत कराई गई इस प्रकार कुल लगभग 3523600 रुपए कीमत की प्रॉपर्टी जप्त की गई मालूम हो कि राजेश सिंह त्रिदेव ग्रुप का संचालन अपने भाई उमेश सिंह के साथ मिलकर करता रहा है ।इसके द्वारा मुख्तार अंसारी के गैंग की आर्थिक रूप से मदद पिछले दो दशकों से की जाती रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here