मऊ-मुख्तार अंसारी के खास ईशा का पेरिस प्लाजा ध्वस्त

0
404

मऊ-अभिलेखों में हेराफेरी कर मऊ शहर के गाजीपुर तिराहा पर सरकारी भूमि पर खड़े भव्य पेरिस प्लाजा पर गुरुवार को प्रशासन का बुलडोजर गरज उठा। प्रशासन द्वारा मऊ सदर विधायक मुख्तार अंसारी गिरोह आईएस-191 के नजदीकी भूमाफिया घोषित मोहम्मद ईशा की 20 करोड़ की यह तीन मंजिला व्यवसायिक इमारत पूरे दिन चली कार्यवाही ने जमींदोज हो गई। सिटी मजिस्ट्रेट जे.एस.सचान के नेतृत्व में चले इस ध्वस्तीकरण की कार्यवाही के दौरान मौके पर कई थानों की पुलिस फोर्स व पीएसी के जवान तैनात रहे। दो सरकारी विभागों को दो बार बेच कर मुआवजा हथियाने के बाद भी इस जमीन पर यह निजी संपत्ति वर्ष 2004 से शान से खड़ी हुई और इसमें होटल,रेस्टोरेंट और वैवाहिक लान चलते रहे। बीते पांच वर्षों से इस भवन में रेस्टोरेंट बंद कर संचालक मोहम्मद ईशा ने इसे वी-मार्ट को किराए पर दे दिया था।एक समाचार पत्र ने वर्ष 2014 में इस जमीन घोटाले के बारे में समाचार प्रकाशित किया तो एक सामाजिक कार्यकर्ता द्वारा इस जमीन की नवैयत पता लगाने के बाद इस बात की बार बार शिकायतें शासन प्रशासन से की गई। इसे संज्ञान में लेते हुए बीते 10 फरवरी 2020 को इसे जिला प्रशासन ने सील कर दिया। सीलिंग के खिलाफ इसके मालिक ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। बीते 27 अगस्त 2020 को इसके ध्वस्तीकरण का आदेश पारित हुआ।ध्वस्तीकरण के आदेश के विरुद्ध मोहम्मदी ईशा ने कलेक्टर नियंत्रित प्राधिकारी के न्यायालय में अपील की। इस अपील को जिलाधिकारी न्यायालय द्वारा बीते 31 अगस्त 2020 को खारिज कर दिया गया तथा 5 नवंबर 2020 ध्वस्तीकरण हेतु आवश्यक आदेश पारित किया गया।इस आदेश के तहत सिटी मजिस्ट्रेट के जे.एन.सचान नेतृत्व में पहुंची फोर्स व टीम ने पूरी इमारत को ध्वस्त कर दिया।ईशा खान के वकील जावेद ने कहा कि यह तो प्रशासन का पक्षपात पूर्ण कार्य है, उन्होंने दावा किया कि इमारत को बचाने के लिए कोर्ट से स्टे लिया गया है बावजूद इसके मनमाने ढंग से इमारत को तोड़ दिया गया। उन्होंने बताया कि बीते 4 नवंबर को इमारत तोड़ने के लिए 7 नवंबर की तारीख तय की गई थी लेकिन गुरुवार को ही प्रशासन द्वारा बताया गया कि आज ही के दिन 12 बजे पेरिस प्लाजा तोड़ दिया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here