महोबा-महोबा डिपो का अवतरण

0
202

महोबा; महोबा रोडवेज की बस, बस स्टॉप पहुंचने से पहले ही एक गर्भवती महिला को प्रसव पीडा शुरू हो गयी। सोमवार को रोडवेज बस में प्रसव पीड़ा से तड़प रही महिला को देख कर एक बुजुर्ग महिला द्रवित हो गई और उसने महिला का बस में सुरक्षित प्रसव करा दिया।भगवान की कृपा से प्रसव के बाद जच्चा और बच्चा दोनों स्वास्थ्य व ठीक हैं। बस में बच्चा पैदा होने के कारण रोडवेज कर्मियों ने खुशी में उसका नाम महोबा डिपो रख दिया है। फिलहाल मीडिया की दखल के बाद जिला अस्पताल प्रशासन ने महिला को जिला महिला अस्पताल में भर्ती कराया है। जहां जच्चा, बच्चा की हालत बेहतर बताई जा रही है। भारत सरकार द्वारा सुरक्षित प्रसव के लिये जननी सुरक्षा योजना और नवजात के लिए शिशु सुरक्षा योजना की जमीनी हकीकत महोबा पहुंचने से पहले रोडवेज बस में उस समय देखने को मिली, जब गर्भवती महिला ने असहनीय पीड़ा से कराहने के बाद बच्चे को जन्म दिया। करीब 50 किलोमीटर के सफ़र के दौरान यह महिला दो सीएससी और कई पीएससी सेंटर से होकर गुजरी, मगर उसे कहीं मदद नहीं मिली। जब असहनीय पीड़ा से कराहने लगी तो परिवार के लोगों ने एंबुलेंस को फोन किया। एंबुलेंस नहीं आई तो परिजन उसे रोडवेज बस से जिला चिकित्सालय ले जाने के लिए निकले। बस में भी महिला का दर्द कम नहीं हुआ और वह बराबर कराह रही थी। यह देख बस में मौजूद एक उम्र दराज महिला का दिल पसीज गया। उसने ऊपर वाले से जच्चा और बच्चा की सलामती की दुआ की और बस में पर्दा डालकर गर्भवती का प्रसव करा दिया। बस परिचालक की पहल पर स्वास्थ्य टीम मौके पर पहुंची ओर महिला का उपचार अब महोबा जिला अस्पताल में किया जा रहा है। महिला चिकित्सक अमृता सिंह ने बताया कि रोडवेज बस में परिचालक द्वारा महिला के प्रसव होने की सूचना मिली थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here