मिर्जापुर-रू० 1 हजार के लिए भाभी,भतीजी व भतीजे की हत्या

मिर्जापुर- कटरा कोतवाली थाना क्षेत्र के डंगहर में शनिवार की दोपहर कुल्हाड़ी की मार से घायल भाभी और भतीजी की मौत के बाद घायल 6 वर्षीय आरूष की भी इलाज के दौरान मौत हो गई।दवा के लिए 1 हजार रूपये नहीं देने के कारण रामनारायण ने अपनी भाभी ,भतीजी और भतीजे आरूष को कुल्हाड़ी से काट डाला ।गंभीर हालत में आरूष को बेहतर उपचार हेतू उसको वाराणसी रेफर किया गया था।इलाज के दौरान मासूम बालक की भी मौत हो गई ।पुलिस ने आरोपी रामनारायण को रेलवे स्टेशन परिषद से गिरफ्तार कर लिया। मामले का खुलासा पुलिस अधीक्षक अजय कुमार ने पुलिस लाइन परिसर में पत्रकार वार्ता के दौरान किया ।पुलिस अधीक्षक ने बताया कि शनिवार की दोपहर करीब 2:00 बजे डंगहर निवासी रामनारायण उर्फ टीटू ने कुल्हाड़ी से अपने सगे बड़े भाई जगनारायण सरकारी पोस्टमैन की पत्नी रेनू आयु करीब 35 वर्ष, पुत्री हर्षिका आयु करीब 9 वर्ष व पुत्र आरूष उम्र करीब 6 वर्ष पर कुल्हाड़ी से प्रहार कर दिया था। रेनू व हर्षिका की मौत घटनास्थल पर ही हो गई थी। घायल आरुष को इलाज हेतु मंडलीय चिकित्सालय सदर में भर्ती कराया गया था लेकिन वहां से बेहतर इलाज के लिए वाराणसी ट्रामा सेंटर रेफर किया था, जिसकी इलाज के दौरान मृत्यु हो गई। बड़े भाई जगनारायण की तहरीर के आधार पर मामला दर्ज किया गया था। आरोपी रामनारायण वारदात को अंजाम देकर घर से फरार हो गया था। उसकी गिरफ्तारी के लिए क्राइम ब्रांच,सर्विलांस व थाना कोतवाली कटरा की संयुक्त टीम द्वारा इलेक्ट्रॉनिक साक्ष्य के जरिए रामनारायण को मिर्जापुर रेलवे स्टेशन स्थित शंकर जी के मंदिर के पास से गिरफ्तार किया गया। अभियुक्त रामनारायण ने बताया कि पिता की मृत्यु के बाद बडे भाई को मृतक आश्रित के रूप में भाई जगनारायण को नौकरी मिली थी। भाई के वेतन व मां के पेंशन के पैसों को लेकर घर में अक्सर अन्तर्कलह होता था। शादी के बाद भाई जगनारायण काफी बदल गए थे। भाभी रेनू ही घर की मालकिन बन गई थी। भाई के वेतन व मां के पेंशन के पैसे को मनचाहे तरीके से खर्च करती। बवासीर रोग से पीड़ित होने पर दवा के लिए 1 हजार रूपये मांगा था जो नहीं मिला। पढ़ाई व अन्य खर्च का पैसा मांगने पर न मिलने के कारण आक्रोश में आकर उसने इस घटना को अंजाम दिया। आरोपी को गिरफ्तार करने में पुलिस ने संयुक्त रूप से प्रयास किया और वारदात के 24 घंटे के अंदर ही अभियुक्त को गिरफ्तार कर लिया।

Also Read:  गाजीपुर-आखिर पुलिस के गिरफ्त में आ ही गया