लखनऊ-केन्द्रीय गृहराज्य मंत्री का बेटा मुख्य आरोपी, लखीमपुर खीरी प्रकरण

लखनऊ- लखीमपुर खीरी के तिकुनियां में उपद्रव के बाद 3 अक्टूबर 2021 को हुई हिंसा में 4 किसान सहित 8 लोगों की मौत के मामले में सोमवार सीजेएम कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की गई। लखीमपुर खीरी हिंसा के 88 दिन बाद दाखिल चार्जशीट में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र उर्फ टेनी के पुत्र आशीष मिश्रा उर्फ मोनू को मुख्य आरोपी बनाया गया है। इस केस की जांच कर रही एसआईटी ने जो चार्जशीट दाखिल की है वह पूरे 5 हजार पन्नों की है। इसमें बताया गया है कि आशीष मिश्रा उर्फ मोनू घटनास्थल पर मौजूद था। लखीमपुर हिंसा के मामले में सोमवार को 88 दिन पूरे होने पर आरोपितों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया गया।मामला हाईप्रोफाइल होने के कारण आरोप और विवेचना के दौरान दर्ज किए गए बयानों पर लोगों की नजरें टिकी थी। इस आरोप पत्र में 17 लोगों पर सैकड़ों गंभीर आरोप लगाए गए हैं। जिसमें 3 की मौत हो गई है।अब 14 को इस हिंसा का जिम्मेदार बताया गया है।इनमें से 13 को गिरफ्तार किया गया है एक अन्य आरोपी वीरेंद्र कुमार शुक्ला को पुलिस ने साक्ष्य मिटाने के अपराध का दोषी माना है। आरोप पत्र में साफ कहा गया है कि घटना के दिन तथा समय केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा उर्फ़ ट्रेनी का पुत्र आशीष मिश्रा उर्फ मोनू घटना के समय घटनास्थल पर मौजूद था। सीजेएम चिंताराम की कोर्ट में दाखिल चार्जशीट में 17 लोगों को हिंसा का जिम्मेदार और दोषी माना गया है। इनमें से मुख्य आरोपित आशीष मिश्रा मोनू तथा 14 लोग गिरफ्तार कर जेल भेजे गए हैं। अन्य तीन की मौत हो गई। इस केस में पुलिस 208 गवाह भी कोर्ट में पेश करेगी। विवेचक स्पेक्टर विद्याराम दिवाकर ने सोमवार को चार्जशीट दाखिल की, एसपीओ एस. पी. यादव ने आरोप पत्र दाखिल होने की पुष्टि की है।

Play Store से हमारा एप्प डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें Find us on Play Store