लखनऊ-पुर्व मंत्री गायत्री प्रजापति व 2 अन्य को आजीवन कारावास

लखनऊ-चित्रकूट की रहने वाली महिला ने गायत्री प्रजापति और उनके सहयोगियों पर सामुहिक दुष्कर्म का आरोप लगते हुए लखनऊ के गौतमपल्ली थाने मुकदमा दर्ज कराया था।इसी मामले मे अभियोजन पक्ष ने तीनों आरोपियों गायत्री प्रजापति, अशोक तिवारी व आशीष शुक्ला के लिए सख्‍त सजा की मांग की थी। भारतीय दंड संहिता के प्रावधानों के अनुसार सामूहिक दुराचार में अधिकतम 20 वर्ष और पाक्सो एक्ट के अंतर्गत दोषी पाए जाने पर उम्र कैद तक की सजा का प्रावधान है। इस मामले में अदालत ने गायत्री प्रजापति, अशोक तिवारी और आशीष कुमार शुक्ला को महिला से सामूहिक दुष्कर्म करने के अलावा नाबालिग बेटी से दुराचार करने के प्रयास का दोषी पाया था।कोर्ट ने इसी मामले में गिरफ्तार चार सह आरोपियों को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया। पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति के साथ जिला जेल में बंद रहे चारों सह आरोपियों को गुरुवार की रात जेल से रिहा कर दिया गया था। अदालत ने बुधवार को ही इन्हें बरी कर दिया था। यह सभी गायत्री के साथ वर्ष 2017 से जिला जेल में बन्द थे। सामूहिक दुष्कर्म और पास्को एक्ट में शुक्रवार को अदालत ने पूर्व मंत्री गायत्री, अशोक तिवारी और आशीष को दोषी करार देते हुए अजीवन कारावास व 2 लाख आर्थिक दंड दिया है। जबकि अमरेंद्र सिंह उर्फ पिंटू, विकास वर्मा, चंद्रपाल एवं रूपेश को साक्ष्य के अभाव में दोषमुक्त कर दिया था।

Also Read:  गाजीपुर-और समपन्न हुआ रावण वध लंका में