लखनऊ-सपा का सुपडा साफ,भाजपा की बल्ले-बल्ले

लखनऊ- उत्तर प्रदेश में स्थानीय निकाय से विधान परिषद सदस्यों का चुनाव संपन्न हो चुका है। प्रदेश में कुल 36 सीटों पर हुए निर्वाचन में भारतीय जनता पार्टी ने 33 सीट पर एकतरफा जीत हासिल किया, 2 सीट निर्दलीय उम्मीदवारों के पक्ष में गया तथा एक सीट लोकतांत्रिक जनसत्ता दल के पक्ष में गया। वर्तमान एमएलसी चुनाव में किसी भी विधान परिषद निर्वाचन क्षेत्र में समाजवादी पार्टी मुकाबले में नहीं दिखी।समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो अखिलेश यादव के करीबी मित्रों में शुमार सुनील साजन भी बुरी तरह से पराजित हुए। इस तरह से भारतीय जनता पार्टी ने विधानसभा के साथ में विधान परिषद में भी दशकों बाद पूर्ण बहुमत प्राप्त कर लिया।प्रदेश मे पार्टी के जीत से भारतीय जनता पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व सहित प्रदेश नेतृत्व काफी प्रसन्न है। भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवारों की विजय पर प्रतिक्रिया देते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि “यह सरकार के सुशासन व कानून व्यवस्था पर जनता के विश्वास की मुहर है”। निर्दलीय उम्मीदवारों ने वाराणसी से बाहुबली पूर्व एमएलसी बृजेश सिंह की धर्मपत्नी अन्नपूर्णा सिंह विजय हुई है तथा आजमगढ़ मऊ सीट से पूर्व मंत्री व एमएलसी यशवंत सिंह के सुपुत्र विक्रांत सिंह रिशु विजई हुए हैं।वहीं प्रतापगढ़ में राजा भैया का सिक्का बदस्तूर चला और उनके दल का उम्मीदवार विजई हुआ। कुल मिलाकर कहा जाए तो दोनों निर्दलीय और लोकतांत्रिक जनसत्ता दल के विजई उम्मीदवार भी अप्रत्यक्ष भारतीय जनता पार्टी के ही उम्मीदवार है।दोनों निर्दलीयों अन्नपूर्णा सिंह और विक्रांत सिंह रिशु की विजय भाजपा मे योगी विरोधियों के लिए मुंह पर तमाचा है।