सीडीओ नें कार्यशाला का किया शुभारंभ, जानें क्या-2 कहा ?

गाजीपुर- मुख्य विकास अधिकारी हरिकेश चैरसिया की अध्यक्षता में स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2018(स्वच्छ ग्राम-स्वच्छ जिला) उन्मुखीकरण कार्यशाला 01 अगस्त से 31 अगस्त तक एवं वृह्द स्वच्छता अभियान दिनांक 25 जुलाई से 25 अगस्त तक पूरे जनपद में चलाया जाना है। ब्लाक सदर, करण्डा, बिरनो में कार्यशाला के मुख्य अतिथि हरिकेश चैरिसिया ने अपने सम्बोधन में कहा कि जनपद को स्वच्छ एवं 02 अक्टूवर से पहले खुले में शौच मुक्त करने का संकल्प दिलाया।
उन्होने बताया कि स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के अन्तर्गत स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण क्षेत्र की अशुद्धता पेयजल, खुले में पड़ा मल, गंदा वातावरण एवं व्यक्तिगत अस्वच्छता के कारण इन्सेफेलायटिस,कालरा, टायफायड, डायरिया आदि जल जनित जानलेवा बिमारिया पैदा होती है।ग्रामीण क्षेत्र की इस गम्भीर स्थिति में सुधार लाने और ग्रामवासियों के जीवन की गुणवत्ता का स्तर उठाने के उद्देश्य से माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 02 अक्टूबर, 2014 को स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) का
शुभारम्भ किया गया। अभियान के अतिशय महत्व को दृष्टिगत रखते हुए मा0मुख्यमंत्री उ0प्र0 सरकार द्वारा यह निर्णय लिया गया कि 02 अक्टूबर तक प्रदेश को खुले में शौच मुक्त किया जाय। सरकार द्वारा निर्धारित बृहद
और चुनौतीपूर्ण लक्ष्यों की प्राप्ति तभी सम्भव है, जब जनपद के समस्त नागरिक इसके लिए प्रतिबद्ध हो जाए और इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए जनसहयोग दे।भारत सरकार के पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय द्वारा आगामी 01 अगस्त
से 31 अगस्त, 2018 तक स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण, 2018 तथा बृहद स्वच्छता अभियान (स्वच्छ ग्राम स्वच्छ जिला) कराया जाना है। इसमें स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के अन्तर्गत किये गये कार्यो के आधार पर देश के सभी
जनपदों के ग्राम की स्वच्छता स्थिति की संख्यात्मक एवं गुणवत्ता आंकलन कर रैकिंग की जाएगी। जनपद के रैकिंग स्वच्छता के मानकों जैसे-सार्वजनिक स्थानों का सर्वेक्षण, विद्यालयों का सर्वेक्षण, सार्वजनिक स्वास्थ्य
केन्द्र, हाट- बाजार, धार्मिक स्थलों में स्वच्छता की स्थिति की निगरानी जैसे -शौचालय की उपलब्धता, शौचालयों का प्रयोग, जल-जमान की स्थिति तथा स्थानीय लोगे का स्वच्छता के प्रति नजरिया एवं सुधार लाने के लिए उनके
सुझाव जैसे- ग्राम सभा की खुली बैठक, सामुहिक चर्चा, आन लाइन प्रतिक्रिया, व्यक्तिगत साक्षात्कार के माध्यम से यह जानने की कोशिश करना की स्वच्छ भारत मिशन के माध्यम से उनके गावों में स्वच्छता की स्थिति
में सुधार हुआ है कि नही। गाव के ठोस एवं तरल पदार्थो के प्रबन्धन की व्यवस्था है कि नही। पर आधारित होगें । इस सर्वेक्षण के द्वारा उपरोक्तमानकों के आधार पर गावों की स्थिति के क्रम में जनपद की रैकिंग की जाएगी।