माल-ए-मुफ्त और दिल-ए-बेरहम, करोणों लूटने के बाद भी कंगाल

0
732

गाजीपुर- चार दोस्तो ने मिल कर वर्ष 2011 मे एक गैंग बनाया और फिर जम कर एटीएम बदल कर साईबर क्राईम मे जूट गये। चार दोस्तो मे नम्बर 1 व ग्रुप लिडर आसुतोष यादव उर्फ राजन निवासी औंडिहार खुर्द, कोतवाली सैदपुर गाजीपुर , अजय चौहान व अंगद चौहान निवासी कुतुबपुर थाना मुहमम्दाबाद गोहना जिला मऊ,छोटे लाल चौहान निवसी दवतडिया थाना रसडा वलियाँ। मरदह पुलिस और क्राईम ब्राँच ने मुखबिर की सुचना पर जब चारो को जलालाबाद मोड पर पकडा तो इन्हो ने जो पुलिस के साम्हने जो खुलासा किया , उसे सुन कर पुलिस भी चकरा गयी। इन्हो ने खुलासा किया कि अब तक एटीएम बदल कर / क्लोन कर जनपद बस्ती से 1 करोण , कानपुर से 1 करोण, बक्सर से 22 लाख , गोरखपुर से 45 लाख और गाजीपुर से 5 लाख अब तक उडा चूके है। पुलिस ने पुछा कि सब पैसा क्या हुआ ? तो जबाब मिला की सब पैसा हवाई यात्रा, ब्रांडेड जूते,कपडे, घडी,मोबाईल,फाईब स्टार होटलो मे रुक कर अय्यासी मे खर्च हो गये। अब इसे माल-ए-मुफ्त और दिल-ए-बेरहम न कहें तो क्या कहेगें आप।

Leave a Reply