स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण कार्यशाला का शुभारंभ किया डी०एम० नें

0
264

गाजीपुर – जिलाधिकारी के0 बालाजी की अध्यक्षता में स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2018(स्वच्छ ग्राम-स्वच्छ जिला) उन्मुखीकरण कार्यशाला का शुभारम्भ मुख्य अतिथि जिलाधिकारी के. बालाजी ने मुहम्मदाबाद में दीप प्रज्ज्वलित एवं गाधी जी के चित्र पर माल्यार्पण कर किया। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी हरिकेश चैरसिया, जिला पंचायत राज अधिकारी लालजी दूबे एवं विकास खण्ड मुहम्मदाबाद, बाराचवर एवं भावरकोल के ग्राम प्रधान, सचिव एवं सेकेक्ट्री उपस्थित थे। इस कार्यशाला में मुहम्मदाबाद, बाराचवर एवं भावरकोल ग्राम प्रधान द्वारा स्वच्छ सर्वेक्षण (ग्रामीण) 2018 एवं बृहद् स्वच्छता अभियान के सम्बन्ध मे जानकारी दिया गया और कहा कि मुहम्मदाबाद के ग्राम प्रधान ने मुहम्मदाबाद क्षेत्र का माह सितम्बर, 2018 तक गाव को खुले मे शौच मुक्त कराने का वचन दिया । शेष ग्राम जो चयनित नही है उन्हे भी चयन कर शौचालय हेतु अनुरोध किया। ग्राम प्रधानो द्वारा बताया गया कि शौचालय का पैसा समय पर उपलव्ध कराने, खराब हैण्डपम्प को ठीक कराने, नाली की साफ सफाई एवं बने शौचालय की साफ सफाई मे आ रही परेशानियों के बारे में जिलाधिकारी को अवगत कराया।
इस अवसर पर मुख्य अतिथि ने अपने सम्बोधन में कहा कि स्वच्छ भारत सर्वेक्षण के अन्तर्गत वृह्द स्वच्छता अभियान दिनांक 01 अगस्त से 31 अगस्त तक एवं वृह्द स्वच्छता अभियान 25 जुलाई से 25 अगस्त तक पूरे जनपद में चलाया जायेगा। स्वच्छता का हमारे जीवन में अहम भूमिका है इसलिए हमे एक साथ मिलकर स्वच्छता पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। गाँवो को खुले में शौचमुक्त एवं साफ सफाई में प्रगति लाने मे सभी का सहयोग अपेक्षित है। इसे प्रदेश सरकार द्वारा एक अभियान के रूप में चलाया जा रहा है। जिलाधिकारी ने उपस्थित समस्त ग्राम प्रधान, सचिव, सहायक खण्ड विकास अधिकारी, खण्ड विकास अधिकारी को इस अभियान में गम्भीरता से जुड़ते हुए पूरे जनपद को स्वच्छ रखने की अपील की। इस अभियान को सम्पन्न कराने हेतु कुशल नेतृत्व प्रदान करे। जिलाधिकारी ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रो में शौचालय का शत प्रतिशत उपयोग किया जाय। उन्होने सभी ग्राम पंचायतो में वृह्द स्तर पर सार्वजनिक स्थानों, स्कूलो, पंचायत भवनो, स्वास्थ्य विभाग के सेन्टर, आंगनवाड़ी केन्द्रो, हाट- बाजार, धार्मिक स्थलों, स्कूल के शौचालयो आदि स्थानो पर साफ सफाई करायी जाय। उन्होने कहा कि सर्वेक्षण इस लिए महत्वपूर्ण है क्योकि इसी वर्ष माह अक्टूवर, 2018 में जनपद को खुले में शौच मुक्त किया जाना है।
मुख्य विकास अधिकारी हरिकेश चैरसिया ने कहा कि जनपद को स्वच्छ एवं खुले में शौच मुक्त करने के लिए जितना पैसा चाहिए ग्राम प्रधानो के सीधे खाते में भेज दिया जायेगा। पैसे की कमी नही है जनपद को खुले मे शौचमुक्त कराना है जो गाव चिन्हित नही है उन्हे भी चिन्हित कर शौचालय उपलबध कराया जायेगा। स्वच्छता एवं खुले में शौच मुक्त हमारा एक आन्दोलन है जिसे हमे लामबन्द होकर पूर्ण करना है। कार्यक्रम के अन्त में स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण )के अन्तर्गत उपस्थित सभी अधिकारी , कर्मचारी एवं ग्राम प्रधानों द्वारा शपथ दिलायी गयी।

Leave a Reply