गाजीपुर-संदिग्ध महिलाओं का गिरोह पुलिस के चंगुल में

0
1081

गाजीपुर- सैदपुर नगर में सोमवार को महिलाओं व किशोरियों का संदिग्ध ग्रुप पुलिस के हत्थे चढ़ गया. जिसके बाद पुलिस सभी को लेकर थाने आई। पकड़ी गई महिलाओं ने पुलिस को बताया कि वह भीख मांग कर गुजारा करती हैं। वहीं उनके कई तरह के बयानों से पुलिस ने संदेह के चलते उनका पूरा ब्यौरा लिया और महिला पुलिस से तलाशी लेकर पूछताछ शुरू किया। सोमवार की दोपहर पुलिस को सूचना मिली कि नगर के कुछ घरों में महिलाएं और किशोरियां सिर्फ ऐसे घरों में जा रही है जहां सिर्फ एकल महिलाएं हैं और वहां जाकर यह कहते हुए धन की मांग कर रही है कि वह किसी बाल कल्याण संस्था से आई है और यह धन उनके लिए उस संग्रह कर रही हैं।वो नगर के कई दुकानों पर भी गई। इस तरह की सूचना कई जगह से मिलते ही सैदपुर पुलिस के कान खड़े हो गए और इसी तरह के गिरोह द्वारा बीते दिनों लूटपाट के बाद की गई नृशंस हत्याओं का की याद आ गई। जिसके बाद चौकी इंचार्ज वंश बहादुर सिंह 2 महिलाओं व 2 किशोरियों के ग्रुप को पकड़ कर थाने लाये।इसके बाद बारी बारी करके चार अन्य युवतियों के ग्रुप को भी थाना लाया गया। पूछताछ में पहले उन्होंने बताया कि वह भीख मांगती हैं और करीब 30 की संख्या में गाजीपुर शहर के मिश्र बाजार में टिकी हुई है । उन सभी के आधार कार्ड पर उनका पता सोरजा रोड़ थाना नीम पाली, राजस्थान मिला। इसके बाद उनमें से एक ने अपना बयान बदलते हुए कहा कि उसके पिता का एक्सीडेंट हो गया है और वह बनारस में भर्ती हैं। वह उनके इलाज के लिए रुपए जूटा रही है। जिसके बाद महिला कांस्टेबल ने उसकी तलाशी ली।उसकी हरकत थाने में भी संदिग्ध लग रही थी।उनमें से किसी के पास मोबाइल का न होना भी संदेह पैदा कर रहा था। इसके अलावा पहनावे से वह सभी अच्छे घर की लग रही थी। थाने में बिठाए जाने के बावजूद उनके चेहरे पर शिकन तक नहीं था।कोतवाल रविंद्र भूषण मौर्या ने बताया कि पूछताछ करके उनके घर वालों को बुलाया जा रहा है बिना तफ्तीश के कुछ नहीं कहा जा सकता। शाम 6:00 बजे तक पूछताछ जारी थी। गौरतलब है कि पुलिस को शक है कि महिलाएं दिन में घरों की रेकी करके रात में लूट और हत्या की घटना को अंजाम देती हैं,ये अक्सर घर मे अकेली रह रही महिलाओं को शिकार बनाती हैं।

Leave a Reply