गाजीपुर-चौरीचौरा कांड और शताब्दी महोत्सव

0
181

गाजीपुर- जनपद में चौरीचौरा शताब्दी महोत्सव के आयोजन के संबंध में मुख्य विकास अधिकारी श्री प्रकाश गुप्ता की अध्यक्षता एवं जनपद नोडल अधिकारी अपर जिला अधिकारी राजेश कुमार सिंह की उपस्थिति में एक महत्वपूर्ण बैठक राइफल क्लब सभागार में संपन्न हुई। बैठक में बताया गया कि 4 फरवरी 2021 को चौरी चौरा शताब्दी महोत्सव धूमधाम से मनाया जाएगा। इस अवसर पर जनपद के विभिन्न ग्रामसभावों, विद्यालयों से प्रातः 8:30 बजे प्रभातफेरी प्रारंभ होते हुए आसपास के शहीद स्मारक पर 10:00 बजे तक पहुंचेगी। जिसमें एनएसएस, एनसीसी, नेहरू युवा केंद्र, स्काउट गाइड, स्वयंसेवी संस्थाओं के वॉलिंटियर्स को सम्मिलित किया जाएगा। पूर्वाहन 10:00 बजे वंदे मातरम का गायन जनपद के शहीद स्मारक स्थानों पर आयोजित किए जाएंगे। पूर्वाहन 10:15 बजे स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों एवं शहीदों के परिजनों को सम्मानित किया जाएगा। 11:00 बजे माननीय प्रधानमंत्री चौरी चौरा शताब्दी समारोह का शुभारंभ करेंगे, जिस का सजीव प्रसारण होगा। सभा स्थल पर विविध कार्यक्रम भी आयोजित होंगे।सायंकाल 5:30 से 6:00 तक पुलिस बैंड द्वारा राष्ट्रधुन बजाय जाएगा। शाम 6:30 बजे दीप प्रज्वलन का कार्य भी होगा ।जनपद में दो कार्यक्रम मुख्य हैं जिनमें प्रथम अष्ट शहीद स्मारक स्थल मुहम्मदाबाद तथा दूसरा परमवीर चक्र विजेता अब्दुल हमीद के पैतृक गांव धामूपुर में आयोजित किया जाएगा। इसके अतिरिक्त जनपद के अन्य सभी शहीद स्मारक स्थलों पर भी उपरोक्त कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। मोहम्दाबाद के कार्यक्रम का संचालन नेहरू युवा केंद्र के लेखा एवं कार्यक्रम सहायक सुभाष चंद्र प्रसाद करेंगे। बैठक में पुलिस अधीक्षक शहर गोपीनाथ सोनी, समस्त उपजिलाधिकारी, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, प्रधानाचार्य जीजीआईसी, अपर जिला सूचना अधिकारी राकेश कुमार ,डॉक्टर प्रगति कुमार तथा अन्य संबंधित लोग उपस्थित थे। चौरीचौरा कांड- वर्ष 1920 में महात्मा गांधी के अह्वाहन पर देशभर मे अंग्रेजों के खिलाफ असहयोग आन्दोलन हो रहा था। लोग अंग्रेज के सामानों, अदालतों, पुलिस आदि का वहिष्कार कर रहे थे।गोरखपुर के पास स्थित चौरीचौरा मे भी लोग अंग्रेजों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे। अंगेज पुलिस ने प्रदर्शन को रोकने के लिए प्रदर्शन कर रहे लोगों पर गोलियां चला दिया इससे आन्दोलनकारी भड़क गये और एक पुलिस स्टेशन जलाने सहित 23 अंग्रेज पुलिसकर्मियों को मार डाला। यह घटना 4 फरवरी 1922 को घटित हुई थी।

Leave a Reply