गाजीपुर- रेलवे को चूना लगाने वाला शातिर गिरफ्तार

0
654

गाजीपुर-रेलवे सुरक्षा बल पोस्ट देवरिया सदर पर दर्ज टिकट दलाली का उच्च स्तरीय मामले में रेलवे सुरक्षा बल पोस्ट औड़िहार को हाथ लगी बड़ी सफलता
रेलवे सुरक्षा बल देवरिया सदर पर पंजीकृत मु.अ.सं.-154/20 U/S 143 RA S/V आफताब अंसारी आदि दिनांक-24.11.20 मामले में अभियुक्त आफताब अंसारी द्वारा जिस ‘A S Group’ नामक व्हाट्सएप ग्रुप से OCEAN एक्सटेंशन पर्चेज करने की बात स्वीकार किया गया था दौराने जांच उस व्हाट्सएप ग्रुप के संचालक और मामले का मास्टर माइंड अरुण कुमार कुशवाहा पुत्र विजय कुशवाहा निवासी पकड़ियार पूरब पट्टी थाना सेवरही जिला कुशीनगर उम्र 21 वर्ष को दिनांक 16.02.21 को निरीक्षक/औड़िहार नरेश कुमार मीणा और उप निरीक्षक/देवरिया अबु फरहान गफ्फार व कान्स विक्रम कुमार आजाद द्वारा सर्किट हाउस बनारस के पास से उसके द्वारा irctc के पर्सनल यूजर आई.डी. पर बनाये गए 07 अदद कीमत 4536 रुपये के सामान्य एवं तत्काल रेल आरक्षित ई टिकटों के साथ गिरफ्तार किया गया । अभियुक्त से पूछताछ में उसके द्वारा बताया गया कि वो एक्सटेंशन ऑनलाइन किसी व्यक्ति से खरीदता था अपने AS GROUP नामक व्हाट्सएप ग्रुप पर एक दलाल को 700 से 900 रुपये प्रतिमाह के दर से बेचा करता था और इस तरह के उसके दो सौ से ज्यादा ग्राहक थे जो उससे उक्त प्रतिबंधित एक्सटेंशन खरीदते थे तथा वह ग्राहकों से एक्सटेंशन का पेमेंट अपने विभिन्न बैंको के एकाउंट और paytm पर लेता था । अभियुक्त द्वारा उक्त एक्सटेंशन बेचने के लिए जिस व्हाट्सएप ग्रुप का प्रयोग किया गया है वो मोबाइल नम्बर भी फर्जी नाम पर जारी करवाया है । उक्त अरुण कुशवाहा द्वारा अभियुक्त आफताब अंसारी को भी एक्सटेंशन बेचे जाने की बात स्वीकार की गई तथा अपने सहयोगी गौतम वर्मा जिसे अभी बीते दिनांक 02.02.21 को ही गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है, के साथ मिलकर अपने 07 अदद पर्सनल यूजर id पर उपरोक्त एक्सटेंशन की मदद से रेलवे ई टिकट बनाकर उसे 300 से 500 रुपये अधिक दाम पर बेचने की बात भी स्वीकार किया गया। उक्त अभियुक्त अरुण कुशवाहा RPF पोस्ट हड़पसर पुणे मंडल सेंट्रल रेलवे में वांछित है जिसकी गिरफ्तारी हेतु सेंट्रल रेल की टीम द्वारा उसके लखनऊ स्थित किराये के रूम पर दबिश दिया गया था किंतु अरुण को सूचना हो जाने के कारण वह भाग गया और गिरफ्तार नही हो सका लेकिन उसका लैपटॉप को जब्त कर लिया गया था । अरुण कुशवाहा शातिर किस्म का अपराधी है जो कई दिनों से चकमा देकर बच रहा था लेकिन अंततः RPF द्वारा उसे बनारस से दबोच लिया गया। उसके पास कोई एजेंट आई डी भी नही है। उपरोक्त अभियुक्त द्वारा पिछले दो वर्षों से ई टिकट का अवैध कारोबार करने की बात स्वीकार किया गया।

Leave a Reply