खनन् अधिकारी का आदेश ,थानध्यक्षो के लिए रद्दी का टुकड़ा

0
358

गाजीपुर- लाखों रुपया लगाने और पचासों लोगों को रोजगार देने वाले ,ईट उद्योग के मालिकों की हालत कफी खस्ता है। लाखों रूपया रायल्टी, पर्यावरण स्वछता प्रमाण पत्र , जी०एस०टी०मे रजिस्ट्रेशन कराने के बाद , महिनों खान निरीक्षक के कार्यालय का चक्कर लगाने के बाद ईट उद्योग के मालिकों को पोलोधन (पोलोधन 60 से 80 % बलुआ मिट्टी) खनन् का अधिकार विभाग देता है। खनन् अधिकारी के आदेश को लेकर जब ये खनन् कराने जाते है तो सम्बन्धित थाना क्षेत्र के थानध्यक्ष ईट उद्योग के मालिकों को डपट कर भागा दे रहे है। अपने खान निरीक्षक साहब के आदेश की बेईज्ज़ती को देख कर भठ्ठा मालिक ,खान निरीक्षक के पास आकर हालत से अवगत कराते है। खान निरीक्षक के द्वारा थानध्यक्षो से बात करने पर उन्हे भी टेढा जबबा सुनने को मिल रहा है। खान निरीक्षक अनुमति पत्र की प्रतिलिपि सम्बन्धित थानध्यक्षो और उपजिलाधिकारीयों को भी प्रेषित करते है। इस संदर्भ मे जब गाजीपुर टुडे ने खांन निरीक्षक से बात कर समस्या के हल के बारे जानना चाहा तो खान निरीक्षक ने बताया कि डी०एम०साहब बाहर है ,उनके आने के बाद इस संदर्भ मे एक पत्र सभी क्षेत्रधिकारीयों को प्रेषित किया जायेगा।

Leave a Reply