Ghazipur news:इन कारणों से कुपित सीडीओ ने समाज कल्याण अधिकारी का बेतन रोका

342

गाजीपुर-जनपद के विभिन्न गांव में हुए निर्माण कार्यों में अनियमितता में जांच की जिम्मेदारी को गंभीरता से नहीं लेना समाज कल्याण अधिकारी गाजीपुर राम नगीना यादव को भारी पड़ गया। मुख्य विकास अधिकारी श्री प्रकाश गुप्ता ने मामले को गंभीरता से लेते हुए समाज कल्याण अधिकारी को जांच में हो रही देरी का कारण पूछते हुए पत्र निर्गत किया था। जिसका जवाब नहीं मिलने पर मुख्य विकास अधिकारी ने समाज कल्याण अधिकारी का वेतन रोकने का निर्देश दे दिया है। इसके साथ ही निर्धारित अवधि में जांच कार्य पूर्ण नहीं करने पर सख्त कार्यवाही की चेतावनी भी दी है।सीडीओ के इस कार्यवाही से जनपद स्तरीय अधिकारियों में खलबली मची हुई है। समाज कल्याण अधिकारी को करीब 6 गांव में हुई अनियमितता सहित अन्य कार्यों की जांच की जिम्मेदारी पुर्व तथा निवर्तमान जिलाधिकारी आर्यका अखौरी ने दी थी। इसमें कई जांच के मामले निवर्तमान जिलाधिकारी के दौरान के भी हैं।इन गांवों में अनियमितता की जांच कर 3 माह में जांच रिपोर्ट कार्यालय को सौंपा था,लेकिन करीब 2 साल होने के बाद भी जांच कार्य लंबित व अधूरा रहा। जांच पूर्ण नहीं होने के कारण अब तक प्रशासन स्तर से इन मामलों में कोई कार्यवाही भी नहीं हो पाई है।वही इन मामलों में संलिप्त अधिकारी व कर्मचारी इसे दबाने के लिए संबंधित जांच अधिकारियों का चक्कर लगा रहे हैं। मुख्य विकास अधिकारी श्री प्रकाश गुप्ता ने बताया कि जिला पंचायत राज विभाग की ओर से गांवों में ग्राम प्रधान व सचिव की ओर से ये कार्य कराए गए हैं। इन कार्यों में अनियमितता मिलने पर इसकी शिकायत ग्रामीणों की ओर से जिलाधिकारी से की गई थी। जिसकी जांच करने के लिए समाज कल्याण कल्याण अधिकारी को दी गई थी लेकिन जांच को लेकर गंभीर नहीं होने पर नोटिस भी जारी किया गया था।जिसके बाद भी जांच रिपोर्ट नहीं मिलने पर वेतन रोकने के लिए पत्र जारी किया गया है,जांच रिपोर्ट नहीं मिलने तक वेतन बाधित रहेगा।

Play Store से हमारा App डाउनलोड करने के लिए नीचे क्लिक करें- Qries