Ghazipur news :इस वजह से जिला जेल में छा सकता है अंधेरा

195

गाजीपुर: बिजली विभाग बकाया बिजली के बिल की वसूली को लेकर काफी सख्त हो गया है। 21 जनवरी 2023 को विद्युत विभाग ने एक लाख से अधिक विद्युत बिल बकायेदारों के खिलाफ आरसी काटने की कार्यवाही किया है।इसने 233 उपभोक्ताओं का तत्काल तथा बाद में 468 उपभोक्ताओं के खिलाफ कुल 701 आरसी काटने की कार्यवाही की जा रही है। बिजली विभाग के इस सख्ती के कारण जिला जेल में हड़कंप मचा हुआ है।पूर्वांचल के अतिसंवेदनशील जिलों में शुमार गाजीपुर का जिला जेल बिजली विभाग का सबसे बड़ा कर्जदार बन कर एक बार फिर सुर्खियों में छा गया है। जिला जेल पर करीब 12 लाख रुपए से अधिक का बिजली बिल बकाया है। विभाग के अधिकारी प्रतिमाह नियम से जेल विभाग के अधिकारियों तक ऑनलाइन बिजली का बिल भेज देते हैं, लेकिन समय से बिल चुकता ना होने के चलते धीरे-धीरे बिल के कर्ज बोझ बढ़ता गया जो अब लाखों के आंकड़े के पार पहुंच गया है. बिजली विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों का कहना है कि बकाए बिल के भुगतान के लिए जेल विभाग के अधिकारियों को कई बार रिमाइंडर भेजा जा चुका है लेकिन अब तक बिल का भुगतान नहीं हुआ है।ऐसे में कभी भी जिला जेल के बिजली का कनेक्शन काटा जा सकता है। बताते चलेगी गाजीपुर जेल अपनी कारस्तानियों को लेकर हमेशा से सुर्खियों में रहा है।हलाकि पहले से अब जेल की हालात में काफी सुधार हुआ है। इसके पीछे की सही वजह यह है कि जेल अधिकारियों द्वारा सही ढंग से मानिटरिंग करना है,नहीं तो एक समय ऐसा भी था कि जब पूरे पूर्वांचल में गाजीपुर जेल का नाम दबंग जेल के रूप में लिया जाता था। जेल का कोई अधिकारी यहां जानबूझकर अपनी पोस्टिंग कराने से भी कतराता था। लेकिन अब हालात में काफी सुधार हो चुका है, फिर भी जेल की कुछ कारस्तानिया़ं अभी तक जारी है।उदाहरण के तौर पर जेल बिजली विभाग का जनपद का सबसे बड़ा कर्जदार है।उदाहरण के तौर पर करीब 12 लाख का बिजली बिल जेल पर बकाया है फिर भी यहां के अधिकारी बेफिक्र होकर चैन की बंसी बजा रहे हैं।बिजली विभाग के सूत्रों के अनुसार प्रतिमाह नियम के अनुसार बिजली का बिल ऑनलाइन जेल विभाग को भेज दिया जाता है।साभार-डीएनए

Play Store से हमारा App डाउनलोड करने के लिए नीचे क्लिक करें- Qries