Ghazipur(u.p.): जामियां बहरूल उलूम का 57 वां स्थापना दिवस मनाया गया

276

गाजीपुर।शिक्षा का उद्देश्य अच्छा नागरिक बनना है जो देश व समाज की सभ्यता और संस्कृति को जिंदा रख सके उक्त बातें गाजीपुर जनपद से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर आजमगढ़ जनपद की सीमा से सटे हुए बहरियाबाद कस्बे में जामिया बहरूल उलूम के 57 वें स्थापना दिवस पर रविवार को आयोजित कार्यक्रम में विधान परिषद सदस्य आशुतोष सिन्हा ने कही इस दौरान छात्र छात्राओं ने विभिन्न रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत कर दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया इसमें गंगा जमुनी तहजीब का पूर्ण रूप से समावेश रहा है एक तरफ कार्यक्रम का शुभारंभ संस्था का ध्वज फहराकर अब्दुल माजिद साहब(अध्यक्ष हाफिज़ फाउंडेशन)ने किया तो वहीं दूसरी तरफ तिलावते कुरान व मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलित के साथ हुआ बताते चलें कि 1 जनवरी 1967 में बहरियाबाद इलाके के मशहूर समाजसेवी हाफिज़ अब्दुल मन्नान अंसारी ने इस विद्यालय की नींव रखी इसके साथ साथ चार और विद्यालयों की स्थापना किया जिसमें मदरसा बहरूल उलूम ओरीयंटल कालेज,बहरूल उलूम संस्कृत विद्यालय, बहरूल उलूम कन्या जूनियर हाई स्कूल, बहरूल उलूम ओरिएंटल इंटर कॉलेज आदि शिक्षण संस्थाओं की स्थापना किया।
कार्यक्रम में आए हुए जनप्रतिनिधियों का स्वागत संयुक्त रूप से जनाब अब्दुल माजिद साहब अब्दुल वाजिद साहब निसार अहमद तथा ग्राम प्रधान प्रतिनिधि अब्दुल खालिक गुड्डू ने जोरदार तरीक़े से किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता खरपत्तू मौर्य ने किया।इस अवसर पर प्रमुख रूप से आशुतोष सिन्हा (सदस्य विधान परिषद वाराणसी परिक्षेत्र) प्रभात कुमार (जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी गाजीपुर)संदीप सिंह सोनू,अजय सहाय (प्रबंधक सुभाष विद्या मंदिर एवं वरिष्ठ भाजपा नेता)निसार अहमद(पूर्व प्रधान),वाजिद अंसारी(प्रबंधक)अब्दुल खालिक अंसारी (प्रधान प्रतिनिधि बहरियाबाद),सलीम अंसारी, रामब्रत मौर्य,अब्दुल बासित आमिर अंसारी (सेक्रेटरी हाफिज फाउंडेशन)डॉ अब्दुल वारिस सलमान अंसारी तथा मदरसे के प्रमुख अध्यापकों में ओबैदुल्लाह खान मौलाना नूरुद्दीन रियाज अहमद शमशुद्दीन तथा क्षेत्र के सभी गणमान्य लोग मौजूद रहे। अंत में ग्राम प्रधान प्रतिनिधि अब्दुल खालिक अंसारी उर्फ गुड्डू ने कार्यक्रम में आए हुए सभी गणमान्य लोगों तथा समस्त ग्राम वासियों का आभार प्रकट किया।

Play Store से हमारा App डाउनलोड करने के लिए नीचे क्लिक करें- Qries