आतंकियों का हिन्दु फाईनेंन्सर गिरफ्तार

474

लखनऊ – एटीएस ने टेरर फंडिंग मामले में 24 मार्च 2018 को गोरखपुर से छह अभियुक्तों को गिरफ्तार किया था। ये सभी अभियुक्त पाकिस्तानी हैंडलर के निर्देश पर आपराधिक षड्यंत्र व कूटरचना करते हुए विभिन्न बैंक खातों में भारत के विभिन्न स्थान से भारी धनराशि मंगवाकर अलग-अलग जगहों पर लोगों में बांटते थे। इस संबंध में एटीएस के लखनऊ थाने में धारा 420, 467, 468, 471, 120बी व 121 ए के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था। रमेश शाह इस पूरे नेटवर्क का सरगना था। गिरफ्तार अभियुक्तों से पूछताछ व अन्य स्रोतों से जानकारी मिलने के बाद इस बात की पुष्टि हुई कि मुख्य रूप से मास्टर माइंड रमेश शाह के द्वारा ही पाकिस्तानी हैंडलर के निर्देश पर भारत के विभिन्न प्रान्तों से अलग-अलग तिथियों में भारी धनराशि जमा कराई गई। रमेश शाह को ही यह जानकारी होती थी कि विभिन्न बैंक खातों से धन किससे निकलवाकर पाकिस्तानी हैंडलर के पास कैसे भेजना है ?

रमेश शाह को ही इंटरनेट काल के माध्यम से पता चलता था कि धन आ गया है। इसके बाद रमेश के कहने पर मुकेश नाम का अभियुक्त खाताधारकों को फ़ोन करके पैसा आने की पुष्टि करता था व खाता धारकों को उनका हिस्सा देकर बाकी पैसा निकलवा लेता था जो रमेश के ही बताए हुए लोगों को वितरित किया जाता था। रमेश के ही निर्देशों पर ही मध्य पूर्व के देशों से जम्मू-कश्मीर, केरल व पूर्वोत्तर के कई राज्यों से एक करोड़ रुपये से भी ज्यादा का धन प्राप्त किया गया और निकाल कर भिन्न-भिन्न स्थानों पर वितरित किया गया। एटीएस के मुकदमे में वांछित रमेश शाह की गिरफ्तारी के लिए लगातार प्रयास किया जा रहा था। इस संबंध में अन्य सुरक्षा एजेंसियों से भी सहयोग लिया जा रहा था। इन्ही प्रयासों से एटीएस की कानपुर यूनिट भी महाराष्ट्र के पुणे में खुफिया सूचनाएं जुटा रही थी, जहां से अंतत: सरगना रमेश शाह की गिरफ्तारी हुई। वह इसी मुकदमे में पूर्व में गिरफ्तार अभियुक्त मुकेश कुमार के साथ किराए पर रामजी पाठक के मकान में रह रहा था। शाह कम्प्यूटर का अच्छा जानकार है और फर्जी प्रपत्रों को तैयार करने का माहिर है। हवाला व्यापारी और विदेशी हैंडलर को कब पैसे जाने होते हैं, यह सिर्फ रमेश ही जानता था। उसे गिरफ्तार करने वाली टीम में एटीएस के डीएसपी मनीष सोनकर के अलावा एसआई ख़ादिम सज्जाद, कांस्टेबल रामजस व संजय सिंह शामिल रहे। एटीएस के आईजी असीम अरुण ने इस टीम को पुरस्कृत करने की घोषणा की है। रमेश शाह मूल रूप से विहार के गोपालगंज जिले में स्थित हजियापुर कैथोलिया का रहने वाला है। वर्तमान समय गोरखपुर के असुरन चुंगी के पास सत्यम शाँपिग मार्ट नामक माल का मालिक है। वही से वह अपना वैध-अवैध धन्धो का संचालन करता है।

Play Store से हमारा App डाउनलोड करने के लिए नीचे क्लिक करें- Qries