और जब डा०महेन्द्र नाथ पान्डेय के साम्हने रो पडे कलराज मिश्रा

468

गाजीपुर – डा. महेंद्र नाथ पांडेय व कलराज मिश्र ने राजनीति की शुरूआत सैदपुर से ही की है। काफी दिनों बाद इस धरती पर दोनों आमने-सामने थे। उन्होंने काफी देर तक आपस में बातचीत की। कलराज मिश्र ने कहा कि भाई साहब के न रहने से काफी अजीब लग रहा है, यहां स्वयं को अकेला महसूस कर रहा हूं। पहले घर आने पर भाई साहब ही सबसे पहले मिलते थे। वे हमारा हाल-चाल लेते थे। अब घर सूना लग रहा है। यह बातें कहते हुए भाजपा के वरिष्ठ नेता के आंखों से आंसू छलक पड़े। प्रदेश अध्यक्ष ने उन्हें ढांढ़स बंधाया। कहा कि हम दोनों ने ¨जदगी में काफी उतार-चढ़ाव देखा है। जन्म और मृत्यु तो ¨जदगी का हिस्सा है। करीब आधा घंटे तक डा. पांडेय वहां रुकने के बाद वापस गए। इस मौके पर कलराज मिश्र के भतीजे ओंकार मिश्र, प्रदेश मंत्री रामतेज पांडेय, नवीन अग्रवाल, सुमन कमलापुरी, सुधीर पाटिल, सभासद द्वय गणपत वर्मा व बृजेश जायसवाल आदि मौजूद थे। इसी क्रम में आबकारी की राज्यमंत्री अर्चना पांडेय ने भी श्री मिश्र के घर पहुंचकर शोक संवेदना व्यक्त किया।

Play Store से हमारा App डाउनलोड करने के लिए नीचे क्लिक करें- Qries