खुले मे सौच मुक्त गाँव , कितना हकीकत ,कितना फ़साना

गाजीपुर – खुले में शौच मुक्त भारत की परिकल्पना वर्तमान समय में , भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की है । और भारत को खुले में शौच मुक्त रखने के लिए उन्होंने भारत सरकार के खजाना का मुंह खोल रखा है। लेकिन इस कार्य को क्रियान्वित करने में शासन-प्रशासन और स्थानीय स्तर के सरकारी कर्मचारी कितने सक्रिय हैं , यह देखने और सोचने की बात है । गाजीपुर जनपद की बात करें तो यह कुल गांव की संख्या है 2661 ,खुले में शौच मुक्त गांवों की जो संख्या है , वह है सरकारी अभिलेखों में 380 है। गाजीपुर मे शौचालय बनाने का जो लक्ष्य , जनपद गाजीपुर में है वह है 377000 हैं। वर्तमान समय में जिन शौचालयो का निर्माण कार्य चल रहा है, गाजीपुर मे उनकी संख्या 750 है ।गाजीपुर जनपद में अब तक निर्मित शौचालयों की संख्या है 108000 , लाभार्थियों को शौचालय बनवाने पर सरकार की तरफ से जो अनुदान है, वह है रुपया 12000 है, और सबसे रोचक तथ्य यह है कि पूरे भारत को , गाजीपुर जनपद सहित खुले में शौच मुक्त बनाने की जो तिथि है वह है 2 अक्टूबर 2018 है । लेकिन यह हकीकत है या ख्याली पुलाव यह तो हर खुले मे सौच मुक्त गांव में रहने वाले लोग ही जानते हैं।

Play Store से हमारा एप्प डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें Find us on Play Store