गाजीपुर-इंदिरा जी को राजनीति विरासत में मिली थी-रविकांत राय

0
205

गाजीपुर आज दिनांक 19 नवंबर को भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी जी का 103 वी जयंती कोविड-19 के नियमों का पालन करते हुए, रोडवेज परिसर स्थित इंदिरा जी के प्रतिमा पर माल्यार्पण कर मनाया गया । तथा कांग्रेस जनों ने अपने अपने विचार व्यक्त किए जिसमें प्रमुख रुप से जिला अध्यक्ष श्री सुनील राम जी ने कहा कि इंदिरा जी सदैव दृढ़ संकल्प एवं साहसिक नेतृत्व के लिए याद की जाती है, अपने लंबे प्रधानमंत्रीत्व काल में उन्होंने देश के चौमुखी विकास के लिए कई ऐतिहासिक निर्णय लिए। 19 नवंबर को उनका जन्मदिन हमें राष्ट्र के प्रति उनकी विशिष्ट सेवाओं को याद करने का अवसर प्रदान करता है। वह भारत के प्रथम और अब तक एकमात्र भारत कि महिला प्रधानमंत्री रही। इसी क्रम में शहर अध्यक्ष श्री सुनील साहू ने कहा कि भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी एक अजीम शख्सियत थी उनके भीतर गजब की राजनीतिक दूरदर्शिता थी, इंदिरा जी का जन्म 19 नवंबर 1917 को हुआ। तथा वह छोटी थी तभी से वह स्वतंत्रता आंदोलन में भाग लेने लगी थी।वही दौर रहा जब 1919 में उनका पूरा परिवार बापू के सानिध्य में आया और इंदिरा ने पिता नेहरू से राजनीति का ककहरा सीखा। पूर्व प्रदेश सचिव श्री रवि कांत राय ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को राजनीति विरासत में मिली थी ऐसे में सियासी उतार-चढ़ाव को बखूबी समझती थी ,यही वजह रही कि उनके सामने न सिर्फ देश बल्कि विदेश के नेता भी उन्नीस नजर आने लगते थे । विचार प्रकट करने वालों में डॉ मार्कंडेय सिंह,पीसीसी सदस्य पंकज दुबे , डॉक्टर जनक कुशवाहा ,राजीव कुमार सिंह, आनंद राय, प्रवक्ता-अजय कुमार श्रीवास्तव, चंद्रिका सिंह, लाल साहब यादव, सतीश उपाध्याय ,वर्चस्व पांडे, मनीष राय ,हिमांशु श्रीवास्तव, माधव कृष्ण ,दिव्यांशु पांडे ,अनुज राय ,राकेश राय ,सीताराम राय, राशिद भाई ,ओम प्रकाश पासवान, फैज उल हक ,अंजर समीम ,झुन्ना शर्मा ,कैलाशपति कुशवाहा ,अनुराग पांडे, ओमप्रकाश राजभर ,राजेंद्र यादव, जफरुल्लाह अजय दुबे आदि लोग उपस्थित रहे ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here