गाजीपुर-क्या अंजना वनाम सपना सिंह का मामला जायेगा हाईकोर्ट ?

गाजीपुर- हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के दरवाजे से होते हुए उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव अन्ततः संपन्न हो ही गया। गाजीपुर जनपद में जिला पंचायत की सबसे प्रतिष्ठा पुर्ण शीट सैदपुर प्रथम पर मतदान भी संपन्न हुआ और मतगणना भी सम्पन्न हो गई। सपना सिंह पत्नी पंकज सिंह चंचल को 31 वोट से विजई घोषित कर दिया गया। उनकी प्रतिद्वंदी अंजना सिंह पत्नी पूर्व सांसद राधे मोहन सिंह भी चुनाव मैदान में थी, मतगणना में धांधली को लेकर पूर्व सांसद के सुपुत्र जो वर्तमान समय में सुप्रीम कोर्ट में अधिवक्ता के तौर पर प्रैक्टिस करते हैं उन्होंने रिटर्निंग ऑफिसर को रीकाउंटिग का प्रत्यावेदन दिया है, जिसमें उन्होंने मतगणना के दौरान धांधली का आरोप लगाते हुए री काउंटिंग कराए जाने का अनुरोध किया है। निर्वाचन अधिकारी यदि आलोक सिंह के इस प्रत्यावेदन को खारिज करते हैं यह माना जाना चाहिए की अंजना सिंह के सुपुत्र अधिवक्ता आलोक सिंह निश्चित तौर से हाईकोर्ट का दरवाजा खट खट आएंगे और ऐसी हालत में हाई कोर्ट रिकाउंटिंग का आदेश दे सकता है।इसी दौरान यदि उत्तर प्रदेश मे जिला पंचायत चेयरमैन का चुनाव होता है और अधिवक्ता आलोक सिंह यदि हाईकोर्ट कोर्ट को यह समझाने मे कामयाब होते है कि बगैर रीकाउंटिंग के यदि गाजीपुर के जिला पंचायत चेयरमैन का चुनाव कराया जाता है तो उनका हित प्रभावित होगा तो हाईकोर्ट गाजीपुर के चुनाव को रोक भी सकता है।अधिवक्ता आलोक सिंह की रणनीति भी यही लगती है।

Also Read:  बलियां-बाप की कातिल बेटी गई जेल