गाजीपुर-खुन की प्यासी कुर्सी

9367

गाजीपुर- जब से त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की सरकार द्वारा तैयारी शुरू किया गया है तब से गांव-गाँव मे भावी प्रत्याशियों द्वारा आपस में छिनरी-बुजरी कथा प्रारंभ हो चुकी है।वर्तमान समय में जनपद मे ब्लाक प्रमुख की सबसे हाट सीट सादात ब्लाक की लग रही है। एकतरफ बाहुबली कमलेश सिंह हकाड़ू है तो दुशरी तरफ बहरियाबाद थाना के बनकटा गांव का मूल निवासी और चौदह हत्याओं का आरोपी संजय यादव है। संजय यादव वर्तमान समय में आजमगढ़ जेल मे बन्द है और जहानागंज आजमगढ़ का ब्लाक प्रमुख है।यह वही संजय यादव है जिसने एक ठेका को लेकर आजमगढ़ जेल से एमएलसी विशाल सिंह चंचल को फोन किया था और दोनों मे काफी गर्मागर्म बहस हुई थी।वर्तमान सादात ब्लाक प्रमुख प्रतिनिधि कमलेश सिंह हकाड़ू एमएलसी विशाल सिंह चंचल के करीबी लोगों मे से एक है।जहानागंज ब्लाक प्रमुख संजय यादव को लेकर जनपद के यादवों मे भी दो फाट है एक पक्ष का कहना है कि संजय ने सर्वाधिक यादवों की ही हत्या किया है अतः यह यादव समाज का हितैषी नहीं हो सकता लेकिन यादवों का दुशरा पक्ष तथाकथित भाजपाई व सपाई संजय यादव के पक्ष मे मजबूती से खडा है।

दोनों खेल रहे है दलित कार्ड- संजय यादव के भाई ओंमकार यादव व उसके सहयोगियों की कनेरी (थाना सादात) में हुई पीटाई व गाली-गलौज का विडिओ वायरल होने के बाद समाजवादी पार्टी खुल कर मैदान में आ गयी और कप्तान को पत्रक देकर कमलेश सिंह हकाड़ू पर एफआईआर दर्ज करने को मजबूर कर दिया। दुशरी तरफ कमलेश सिंह हकाड़ू के ग्राम सभा के दलितों ने ओंकार यादव व उनके साथ आये युवाओं पर मारपीट ,गालीगलौज,धमकी व एससीएसटी का मुकदमा दर्ज करा दिया। कमलेश सिंह हकाड़ू के एससीएसटी कार्ड के जबाब में अब समाजवादी पार्टी के लोग भी इसी कार्ड को खेल रहे है इसका प्रत्यक्ष प्रमाण आज मिडिया को जारी सपा के मिडिया प्रभारी अरूण श्रीवास्तव की प्रेस विज्ञप्ति है। आगे क्या होगा यह तो कोई नहीं जानता लेकिन लगता है आने वाले दिनों मे सादात प्रमुख की कुर्सी खुन की प्यासी है।

आज 1अक्टूबर 2020 को समाजवादी पार्टी के का एक काफिला जिलाध्यक्ष रामधारी यादव के नेतृत्व में पिपनार गांव पहुंचकर कनेरी में हुई मारपीट की घटना मे घायल दलित नौजवान सोनू और पंकज यादव के घर पहुंच कर उनका हाल चाल जाना और कुशल क्षेम करते हुए यह भरोसा दिलाया कि इस संघर्ष की बेला पर पूरी समाजवादी पार्टी आप लोगों के साथ है ।
जिलाध्यक्ष रामधारी यादव ने इस अवसर पर कहा कि जोर जुलुम के खिलाफ संघर्ष करना समाजवादियों का इतिहास रहा है , उन्होंने कहा कि कोई भी व्यक्ति किसी भी जाति का हो चाहे किसी भी धर्म का हो यदि उसके साथ जुल्म ज्यादती होती है तो समाजवादी पार्टी उसको न्याय दिलाने के लिए सदैव संघर्ष करने का काम करेगी । अन्याय, जुल्म और शोषण के खिलाफ लड़ना समाजवादियों की फितरत रही है
काफिले में शामिल कार्यकर्ताओं ने समाजवाद जिन्दाबाद और सामंतवाद मुर्दा बाद।

Play Store से हमारा App डाउनलोड करने के लिए नीचे क्लिक करें- Qries