गाजीपुर-घोंटम घोंट मेरी जा़न

0
364

गाजीपुर- सादात विकास खंड स्थित ग्राम पंचायत इब्राहिमपुर के प्राथमिक विद्यालय के परिसर में लगभग ढाई दशक पूर्व बना अर्धनिर्मित पंचायत भवन आज पूरी तरह से खंडहर में तब्दील हो चुका है। जबकि विभाग का कहना है कि कागज़ में पंचायत भवन का निर्माण पूरा हो चुका है। पंचायत भवन विहीन इब्राहिमपुर के ग्राम प्रधान अंकुर सिंह परेशान हैं कि आखिर पंचायत भवन का निर्माण हो तो कैसे हो? जिसके लिए वह जिला पंचायत राज अधिकारी के कार्यालय का चक्कर कई बार लगाकर परेशान हो चुके हैं। वर्ष 1995 में तत्कालीन ग्राम प्रधान केदारनाथ राजभर द्वारा पंचायत भवन का दीवार वगैरह का काम कराया गया पर छत नहीं बना। लेकिन भ्रष्टाचार इस कदर हुआ कि कागजी रूप से उक्त भवन को पूर्ण दिखाकर बाकी की सारी रकम भी उतार ली गई। इस भवन की पड़ताल न तो विभाग के उच्च अधिकारियों ने ही की और न ही बाद के ग्राम प्रधानों ने कराना उचित समझा। शासन के मंशा के अनुरूप प्रत्येक ग्राम पंचायत में पंचायत भवन का होना प्राथमिकता में है। ताकि पंचायत भवन को डिजिटल कर ग्रामीणों को बैंकिंग सुविधा के साथ आय, जाति, निवास, कुटुम्ब रजिस्टर आदि की नकल इत्यादि व आधार कार्ड से जुड़े सारे आवश्यक कागजात पंचायत भवन से ही उपलब्ध कराया जा सकें। साथ ही पंचायत भवन पर सम्बंधित विभाग के अधिकारी सप्ताह में तीन दिन बैठकर ग्रामीणों की समस्याओं का समाधान कर सकें। ग्रामोदय योजना के अंतर्गत पंचायत भवन से ही ग्रामीण समय-समय पर वीडियो कांफ्रेंसिग के द्वारा प्रधानमंत्री से सीधा संवाद कर सकें, ये भी योजना है। ग्राम प्रधान अंकुर सिंह ने बताया कि पिछले दिनों पंचायत भवन के निर्माण हेतु जिला द्वारा नई सूची जारी की गई पर उसमें भी नाम नहीं है। पुराना अर्ध निर्मित पंचायत भवन मरम्मत योग्य भी नहीं है। शासनादेश के तहत प्राथमिक विद्यालय के परिसर के अंदर नहीं होना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here