गाजीपुर-चांद का दिदार करेगा चांद

0
357

गाजीपुर। सुहाग की दीर्घायु की कामना को लेकर 4 नवंबर को महिलाएं करवा चौथ का व्रत रखेंगी। इस पर्व को लेकर महिलाओं में काफी उत्साह देखा गया। पर्व से एक दिन पूर्व मंगलवार को शहर के बाजारों में जहां पूजा सामग्रियों की खरीददारी होती रही, वहीं सर्राफा बाजार भी में चहल-पहल रही। संजने-सवंरने और मेंहदी रचाने के लिए शहर के ब्यूटी पार्लरों में सुबह से लेकर देर शाम तक महिलाओं के लिए आने-जाने का क्रम बना रहा। गौरतलब है कि इस पर्व पर सुहागिन महिलाएं निर्जला व्रत रखकर पूजा-पाठ करती हैं तथा शाम को श्रृंगार कर चलनी से पति का दीदार कर चंद्रमा को अर्घ्य देती हैं। जिले में अन्य व्रतों की तरह करवा चौथ व्रत का सिलसिला भी तेजी से बढ़ रहा है। हर वर्ष उत्साह के बीच व्रत रखने वाली महिलाओं की संख्या में वृद्धि हो रही है।

करवा चौथ का महात्म्य
पंडित रविंद्रनाथ तिवारी ने बताया कि कार्तिक मास में चतुर्थी तिथि को पड़ने वाले पर्व को करवाचौथ कहते हैं। इसका व्रत महापुण्य दायक होता है। इस व्रत को करने से महिलाओं के पति की आयु जहां लंबी होती है, वहीं उसे सुख-समृद्धि भी मिलती है। पांडवों की रक्षा के लिए इस व्रत को द्रोपदी ने भी रखा था। चंद्मा निकलने के साथ ही चलनी में पति का दर्शन किया जाता है। बाद में पति के हाथ से ही खा कर व्रत का पारण किया जाता है।

बाजार में हुई खरीददारी
पर्व के चलते मंगलवार को देर शाम तक बाजार में भीड़ बनी रही। पूजा-पाठ की सामग्री के साथ ही कपड़ा की दुकानों पर भी खासकर महिला ग्राहकों की चहल-पहल बनी रही। इस मौके पर सूप, चलनी, कुशा, मिट्टी के बर्तन सहित रोली, चंदन आदि पूजा सामग्री की खरीद हुई। खासकर मिश्रबाजार के साथ ही नगर के मुहल्लों में करवाचौथ पर्व से संबंधित सामानों की दुकानें सजाई गई है। इसी प्रकार कपड़ की दुकानों पर भी साड़ी, सूट तथा अन्य प्रकार के परिधानों की बिक्री होती है।

Leave a Reply