गाजीपुर-बुरे फंसी मुराही

0
6780

गाजीपुर-आजकल नंदगंज बाजार में स्वर्णकारों की दुकानों पर महिलाओं के सहयोग से ठगी करने वाला गिरोह सक्रिय हैं। कभी नाक की कील लेने तो कभी लड़की की शादी के बहाने कई डिजाइन के आभूषण देखते- देखते एक दो जोड़ा गहने लेकर युवक मोबाइल से बात करने के बहाने खिसक जाता है।दुकानदार समझता है कि उसके साथ की महिला गहना लेकर बैठी ही है।इसलिये वह ज्यादा ध्यान नहीं देता हैं।कुछ देर बाद जब गहना लेकर देखता है तो संख्या तथा वजन कम होता हैं।

सोमवार की सुबह 11बजे नंदगंज बाजार में ज्ञानचन्द सेठ नामक दुकानदार से लगभग 30 हजार का एक जोड़ी झूमका लेकर मोबाइल से बात करने के बहाने युवक बाहर निकल कर खिसक गया। जब उसके साथ आयी महिला से पूछा गया तो उसने उस युवक को पहचानने में असमर्था व्यक्त करते पूरी घटना बतायी। जानकारी के अनुसार देवसिहा गांव निवासी 40 वर्षीय महिला मुराही देवी को अपने सात वर्षीय लड़की के साथ बाजार आते हुए देख नंदगंज पच्छिमी रेलवे क्रासिंग के पहले एक ठीक ठाक कपड़ा पहने 25 वर्षीय बाइक सवार युवक मिला । उसने नमस्ते कहने के बाद बोला कि माता जी आप हमें नहीं पहचान रहीं है लेकिन मैं आप को पहचान रहा हूं।हमारी बहन की शादी है ,उसी के लिये कुछ गहना लेना है,आप औरत है इसलिये आप गहना पंसद करके खरीदवा दीजिये। इसके बाद वे लोग विनय जायसवाल नामक स्वर्णकार की दुकान पर आये और लगभग 40 हजार रुपये का गहना पंसद किया।उसके बाद साथ आये युवक ने दुकानदार से कहा कि माता जी यहीं बैठी है। हम इस गहने की जांच करा लें । इस पर दुकानदार ने कहा कि नहींं, आप पैसा देकर गहने ले जाइये।यदि गहना गलत होगा तो वापस करके पैसा ले लेना। तब युवक ने कहा कि ठीक है ,इसको शोकेस से बाहर ही रखिये। हमलोग बैंक से पैसा लेकर अभी आ रहें हैं। उसके बाद वहाँ से तीन सौ मीटर की दूरी पर ज्ञानचन्द सेठ की दुकान पर आये और सोने के गहने मांगने पर सेठ ने कई प्रकार का गहना निकाला और सभी को एक साथ तौलकर पंसद करने हेतु उन्हें दे दिया।पंसद करने के दौरान युवक मोबाइल पर बात करते करते बाहर आकर कहीं चला गया।कुछ देर तक नहीं आया तो दुकानदार ने उस महिला से पूछा कि आप के साथ वाले कहां गये ? इस पर महिला के कुछ नहीं बता पाने के बाद सेठ ने महिला से गहना लेकर तौला तो 30 हजार रुपये का एक जोड़ा झूमका नहीं था। जब महिला से साथ आये युवक के बारें में पूछा गया तो उसने उस युवक को पहचानने से इंकार करते हुए आपबीती बताई और रोने लगी।तब पता चला कि ठगी करने वाले गिरोह के लोग अनजान औरतों को अपने साथ लाकर आसानी से ठगी करके इसी तरह रफू चक्कर हो जा रहें हैं। देवसिहा गांव से महिला के परिवार वाले आकर देर शाम तक किसी तरह 15 हजार रुपये सेठ को देकर मामला को रफा दफा कराया। सेठ ने भी सोचा कि चलो कुछ नहीं से कुछ रकम तो मिला। थाना तक ये मामला नहीं पहुँचा।इस तरह की ठगी की कई घटनाएं नंदगंज बाजार में हो चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here