गाजीपुर-भाजपा पदाधिकारियों की सिकायतें भी अनसुनी

0
75

गाजीपुर। सच कहना अगर बगावत है तो समझो हम भी बागी है,अपनी ही सरकार में अपने ही गांव में जब सरकारी योजनाओं की धज्जियां उड़ रही हो तो फिर सत्तारूढ़ पार्टी के नेताओं को तो नागवार गुजरेगा ही।ऐसा ही एक वाकया प्रकाश मे आया है कासिमाबाद विकास खंड के महडौर ग्राम सभा का, जहां शौचालय के घोटाले को देख कर दांतो तले उंगलियां दबाने को कोई भी मजबूर हो जायेगा। यहां मृतकों के नाम पर शौचलय आवंटित किए गए है,बना भी नहीं और पैसा भी उतर गया।यह सारे आरोप महडौर ग्राम प्रधान और सचिव पर भाजपा कासिमाबाद द्वितीय मंडल के महामंत्री उत्कर्ष राय ने लगाया है।महामंत्री ने आरोप लगाते हुए जनसूचना अधिकार के तहत आय व्यय का ब्यौरा मांगा,मुख्यमंत्री के जनसुनवाई पोर्टल पर भी इसकी शिकायत की लेकिन वीडीओ ने आरोपों पर कोई तथ्य ना होने की बात कहकर मामले को निस्तारण करने की बात कहकर भेज दिया,
जबकि जमीनी हकीकत कुछ और ही बयां कर रही है,मृतक के नाम पर शौचालय आवंटित होना,ग्राम सभा के खंडजे का धन भी उतार कर काम ना होना,नालियों पर लगने वाले ढक्कन में भी प्रधान और सचिव के खेल ने मोदी के स्वच्छता मिशन की पोल खोल दी,जिनका गांव से दूर दूर तक कोई रिश्ता नहीं है उनके नाम पर शौचलय आवंटित होना,मिट्टी के काम का जमीन पर ना उतरना और धन हड़प कर लेना कहीं ना कहीं प्रधान और सचिव की मिलीभगत का ही परिणाम है,
भाजपा महामंत्री ने कहा कि मोदी जी और योगी जी सरकार की योजनाओं को जमीन पर लागू कराने के लिए दिन रात एक किए है लेकिन महरौर ग्राम सभा में इन योजनाओं को प्रधान और सचिव मिलकर पलीता लगा रहे है,ऐसे में ग्राम सभा के धन को इन दोनों को वापस ही करना होगा चाहे इसके लिए मुझे कितना भी लड़ाई क्यों ना लड़ना पड़े,
वहीं मंडल महामंत्री के आरोपों को सचिव अजय मिश्रा ने पूरी तरह से खारिज कर दिया है,उनका कहना है कि मृतक के नाम पर कोई शौचालय आवंटित नहीं हुआ है अगर लिस्ट में किसी मृतक का नाम भी है तो यह सूची पहले की है तो उनके जगह उनके पुत्र को शौचालय आवंटित किया गया है,ग्राम सभा में सभी काम मानक के अनुसार हुआ है,जांच के बाद सब दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा,
इस संबंध में जब प्रधान भूटानी राजभर से संपर्क करने की कोशिश की गई तो उन्होंने फोन ही नहीं रिसीव किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here