गाजीपुर-भारत का राष्ट्रवाद गांव के गणराज्य से बना है-जल पुरुष

0
119

गाजीपुर-खरडीहा महाविद्यालय में अंबेडकर स्टडीज सेंटर के तत्वाधान में दो दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार समकालीन समाज और भारतीय राष्ट्रवाद नव्य प्रवृतियां और चुनौतियां विषय पर आयोजित किया गया। इस मौके पर प्रमुख वक्ता काशी हिंदू विश्वविद्यालय के प्रोफ़ेसर राजकुमार ने कहा कि भारतीय राष्ट्रवाद की मूल अवधारणा समता के बुनियादी सिद्धांत पर खड़ा है। मुख्य अतिथि डॉ दीनानाथ सिंह ने कहा कि भारत का राष्ट्रवाद मूल्यों के संवर्धन के आधार पर खड़ा है। डॉक्टर प्रकाश सिंह ने कहा कि पश्चिमी राष्ट्रवाद, भारतीय राष्ट्रवाद का समानार्थी नहीं हो सकता। पूर्वांचल विश्वविद्यालय शिक्षक संघ के महामंत्री डॉ राहुल सिंह राष्ट्रवाद के सांस्कृतिक पक्ष पर अपना विचार रखा। रमन मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित जल पुरुष के नाम से विख्यात राजेंद्र सिंह ने राष्ट्रवाद पर विचार व्यक्त करते हुए कहा कि भारत का राष्ट्रवाद गांव के गणराज्य से बना है, जिस में वसुधैव कुटुंबकम की भावना समाहित है। विशिष्ट अतिथि डॉक्टर जगदीश सिंह ने राष्ट्रीय अस्मिता की सुरक्षा को बनाए रखना ही आज की सबसे बड़ी चुनौती बताया।आगरा विश्वविद्यालय के डॉक्टर अरूणोदय ने कहा कि राजनीति राष्ट्रवाद सामाजिक राष्ट्रवादी के अभाव में सिर्फ सुनने की वस्तु हैं।प्रेम जी फाउंडेशन के रिसोर्स पर्सन डॉ दीपक कुमार ने पश्चिम विचार प्रवाह लेकर भारतीय चिंतन में सामाजिक राष्ट्रवादी तत्वों की मीमांसा प्रस्तुत किया। मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय राजस्थान के डॉ नवनीत कुमार वर्मा ने राष्ट्र के समक्ष नई चुनौतियां का उल्लेख अपने उद्बोधन में किया। डॉक्टर शिल्पा जो प्रेसिडेंसी विश्वविद्यालय कोलकाता से आई थी उन्होंने राष्ट्रवाद के बहु सांस्कृतिक वाद की विभिन्न पक्षों को उजागर किया। सेमिनार प्रारंभ होने से पूर्व उद्घाटन मुख्य अतिथि प्रोफ़ेसर राजकुमार द्वारा वाग्देवी की प्रतिमा पर पुष्पांजलि व दीप प्रज्वलन कर किया गया। मुख्य अतिथि का स्वागत महाविद्यालय के प्रबंधक डॉ शशिकांत राय ने अंगवस्त्रम और स्मृति चिन्ह भेंट कर किया। कार्यक्रम का संचालन डॉक्टर संजय चतुर्वेदी ने किया। इस अवसर पर डॉ सुशील कुमार पांडेय, डॉ अवनीश कुमार सिंह,कुंवर सिंह महाविद्यालय बलिया के प्राचार्य डॉ अशोक कुमार सिंह, प्राचार्य डा०शरद कुमार ,डा०रवि शंकर सिंह, डॉक्टर शैलेंद्र सिंह,डाक्टर नितिन कुमार राय,डा० शशि भूषण पोद्दार, डा० अवनीश कुमार राय,सेतबंधु प्रसाद ,डॉ विनीता शुक्ला, डॉ सुशील कुमार यादव आदि रहे। सेमिनार को सफल बनाने में महाविद्यालय के मेहंदी हुसैन,मनोहर सिंह यादव ,अशोक सिंह यादव, रूपेश राय, दीपक कुमार आदि का सहयोग सराहनीय रहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here