गाजीपुर-मंदिर नहीं,रोजगार चाहिए, जीने का अधिकार चाहिए-भकपा (माले)

0
490

गाजीपुर-भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माले) के कार्यकर्ताओ ने राष्ट्रव्यापी कार्यक्रम के तहत बंदी कश्मीर को रिहा करों ,मंदिर नही,रोजगार चाहिए ,जीने का अधिकार चाहिए ,अस्पताल और कोरोना का मुक्कमल इलाज चाहिए आदि सवालों को लेकर तुलसीसागर लंका कार्यालय पर धरना – प्रदर्शन कर आवाज उठाई
धरना को सम्बोधित करते हुए भाकपा (माले) के जिला सचिव रामप्यारेराम ने कहा कि देश भयानक महामारी के दौर सेगुजर रहा है उतर प्रदेश में कोरोना संक्रमितो की संख्या एक लाख के पार और देश भर मे यह संख्या 18 ळाख के पार हो गई है जब देश मे अस्पताल वेटिलेटर ,मास्क दवा के छिड़काव की जरूरत है ठीक ढ़ग से इलाज न होने के कारण 38 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है आज जब देश मे डाक्टर संसाधनो और जाॅच कीट के अभाव मे इलाज नही कर पा रहे है अरबों रूपया खर्च कर अस्पताल को ठीक करने की जगह मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन कर रही है जो संविधान की धर्मनिरपेक्षता के स्वरूप पर हमला है उन्होने कहा कि आज मंदिर नही, रोजगार और कोरोना का मुक्कमल इलाज चाहिए उन्होने कहा कि मोदी सरकार द्वारा लगाये गये लाकडाउन के चलते गरीबों की रोजी रोटी पर भयानक खतरा उत्पन हो गया है गरीबों प्रवासी गरीबों को भुखमरी से बचाने के लिए सम्मान जनक रोजगार देने छ: महीने तक मुफ्त मे राशन और दस हजार रूपये लाकडाउन गुजारा भत्ता देने की मांग उठाई
राज्य कमेटी सदस्य राजेश वनबासी ने कहा कि देश की युवा पीढी़ भयानक बेरोजगारी की मार झेल रही है रेलवे समेत अन्य विभागो की भर्तिया बंद कर दी गई है शिक्षा चिकित्सा तक को नीजी हाथों मे देकर मॅहगा किया जा रहा है गरीब अब अपना न तो इलाज करा पायेगा और न ही गरीब का बेटा उच्चशिक्षा हासिल कर पायेगा इसलिए आज जरूरत है शिक्षा ,रोजगार को मौलिक अधिकार का दर्जा मिले वही जम्मू कश्मीर की बंदी जनता आजाद करने की
धरना को योगेन्द्र प्रताप भारती ,मंजू गोड़ ,रामअधार ,रामअशीष बिंद ,रबिन्द्रराम ,बिरेन्द्र ,राधेश्याम बिंद ने सम्बोधित किया अंत मे तहसीलदार सदर को मांगपत्र महामहिम राष्ट्रपति को सौपा गया
भवदीय
रामप्यारेराम जिला सचिव माले गाजीपुर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here