गाजीपुर-लूटेरों को लूटना ही एकमात्र विकल्प है

0
384

गाजीपुर- वैसे तो हमारे बातूनी मियां की बातें अक्सर विस्फोटक हुआ करती है लेकिन कभी-कभी बातूनी मिंया की बातें बड़ी सही और सटीक लगती है। आज सुबह-सुबह मैं लार्ड कर्नवालिश के मकबरे के ग्राऊंड से टहल कर जब निकला और पीजी कॉलेज चौराहे पर स्थित केदार भाई के चाय की दुकान पर जब पंहुचा तो वहां बातूनी मियां पहले से बिराजमान थे। मैंने कहा बातूनी भाई चाय पिएंगे ? तो बातूनी भाई ने कहा कि बगैर शक्कर की।मैंने केदार भाई से कहा कि भाई दो चाय बनाइए। एक शक्कर वाली और एक बगैर शक्कर वाली। केदार भाई ने चाय बनाई और दोनों के हाथों मे चाय का कुल्हड़ पकड़ा दिया।चाय पीते समय बातूनी भाई ने कहा, भाई साहब एक बात आप जानते हैं ? मैंने कहा क्या ? उन्होंने (बातूनी ) ने कहा कि जब भी कोई चुनाव आता है ग्राम प्रधान, ब्लॉक प्रमुख ,बीडीसी,जिला पंचायत सदस्य, जिला परिषद के चेयरमैन का हो, नगर पालिका के चेयरमैन, विधानसभा का, विधान परिषद का हो या लोकसभा का हो उम्मीदवारों के शरीर में राजा हरिश्चंद्र की आत्मा प्रवेश कर जाती है और उम्मीदवार को मतगणना तक दानी,समाजसेवी,परोपकारी बना देती है और वह मतगणना संपन्न होने के बाद राजा हरिश्चंद्र की आत्मा उम्मीदवार की शरीर से निकलकर अंतरिक्ष में विलीन हो जाती है। इसके बाद उम्मीदवार हारा हो या जीता हो सबको चोर, भ्रष्ट ,बेईमान ,ऐय्याश बना देती है।ऐसे मे मतदाताओं के सामने मात्र यही विकल्प बचता है कि जितना चुनाव में लूट सकते हो लूट लो। इसके बाद ये राजा हरिश्चंद्र दोबारा 5 साल तक आप को न देखेंगे और नहीं पुछेंगे। मैंने बातूनी मियां की बातों से सहमति जताते हुए चाय खत्म की राम-राम बोलते हुए घर की तरफ चल पडा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here