गाजीपुर-स्कूल बस पल्टी, दर्जनों बच्चे घायल

गाजीपुर-बच्चों को स्कूल लेकर जा रही स्कूल बस मंगलवार की सुबह सादात के कटयां ग्राम स्थित पानी से भरे खेत में अनियंत्रित होकर पलट गयी। बस को पलटते देख खेतों में धान की रोपाई कर रहे ग्रामीण फौरन ही मौके पर पहुंच गये। ग्रामीणों ने बस का शीशा तोड़कर किसी प्रकार बच्चों को बाहर निकाला। घटना में करीब दो दर्जन से अधिक बच्चे घायल हुए है। घटना के बाद चालक मौके से फरार होने में सफल रहा। मौके पर पंहुची पुलिस ने बस को अपने कब्जे में ले लिया है। एसओ ने बताया कि बच्चों के परिजनों से तहरीर मिलने पर कार्रवाई होगी। सादात थाना क्षेत्र अंतर्गत शिशुआपार स्थित माधुरी बालिका पूर्व माध्यमिक विद्यालय की स्कूल बस मंगलवार की सुबह घर-घर से बच्चों को लेने के लिए निकला था। आस-पास के गांव से बच्चों को बैठाकर ले जाते समय बस कटयां गांव के पास मोड़ पर अनियंत्रित होकर पानी से भरे एक खेत में पलट गयी। बस के अंदर से बच्चों की चीख-पुकार सुनकर खेतों में धान की रोपाई कर रहे लोग बचाव के लिए दौड पडे । सभी बच्चों को बस से सकुशल बाहर निकाल लिया गया। दो दर्जन से अधिक बच्चे घायल हो गये। बस में करीब सत्तर से अधिक बच्चे थे। सभी बच्चों को पानी से भरे खेत में पलटी बस का शीशा तोड़कर बाहर निकाने के दौरान ग्रामीणों के साथ ही बच्चे भी कीचड़ से लथपथ हो गये। घायलों में कक्षा एक की ब्यूटी यादव, कक्षा तीन के अमित यादव, यूकेजी के अर्पित, सातवीं की श्रुति के साथ ही शिक्षिका दीपशिखा श्रीवास्तव शामिल रहीं। साथ ही गौरव, विकास, शुभम, अजय, संगीता, सोनी, राहुल, आनन्द, आंचल, बंटी आदि चोटिल हो गये। बचाव कार्य में लगे गांव के लोगों के हाथ में शीशा से चोट लग गया। घटना के तुरन्त बाद चालक राकेश यादव तो फरार हो गया, लेकिन खलासी अनिल यादव ने ग्रामीणों संग बच्चों को बाहर निकालने का कार्य किया। उसे भी ग्रामीणों के आक्रोश का शिकार होना पड़ा। बस में सवार शिक्षिका दीपशिखा श्रीवास्तव ने बताया कि हादसे के समय चालक मोबाईल से बात करते हुए गाडी चला रहा था। उसने गांव के ही दो लोगों को बोनट पर बैठा रखा था, उन से भी बातें कर रहा था। एसओ सुरेन्द्र सिंह ने बताया कि कोई तहरीर नहीं मिली है। तहरीर मिलने पर आगे की कार्रवाई होगी। घटना के बाद प्रबन्धक अमरनाथ राय भी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने मदद कार्य में हाथ बंटाया। प्रिंसपल माधुरी राय ने बच्चों के चोटिल होने पर दुःख व्यक्त करते हुए भगवान का शुक्रिया अदा किया है