गाजीपुर-हैवानियत के खिलाफ कैंडल मार्च

0
233

गाजीपुर-आज दिनांक 28 अक्टूबर को अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा युवा गाजीपुर के युवा जिलाध्यक्ष श्री राजकुमार सिंह के नेतृत्व में संगठन के कार्यकर्ता एवं सर्व समाज के लोगों ने नितिका तोमर की हत्या के विरोध में महुआबाग से लेकर सरजू पांडे पार्क कचहरी तक एक कैंडल जुलूस निकाला और सरजू पांडे पार्क पर समाप्त हुआ, जहां पर मृतक आत्मा निकिता को श्रद्धांजलि अर्पित की गई इस मौके पर युवा जिलाअध्यक्ष ने कहा कि 27 अक्टूबर हरियाणा के बल्लभगढ़ की रहने वाली निकिता तोमर जब वह स्कूल से घर के लिए आ रही थी, तब पहले उसे जबरदस्ती अपहरण करने का प्रयास किया गया और जब अपहरण में असफल हुए, तब मोहम्मद तौफीक और उसके साथियों ने उसको गोली मारकर हत्या कर दी जैसा कि बताया जा रहा था कि 2 साल पहले उस लड़की का अपहरण किया गया था तथा शादी एवं धर्म परिवर्तन का भी दबाव दिया जा रहा था, लेकिन वह लड़की अपने हिम्मत के बल पर लड़ती रही लेकिन उसने शादी एवं धर्म परिवर्तन करने से इंकार दिया था, और इसी की वजह से असफल होने पर उस मुसलमानों ने उस क्षत्राणी की हत्या कर दी। सवाल इस बात का है कि किसी नितिका का नहीं है, सवाल है भारत की बेटी बहन का जो इनके जैसे राक्षस आज भी समाज में खुलेआम घूम रहे हैं, ऐसे लोगों को तो सरेआम फांसी दे देनी चाहिए। वह 18 साल की लड़की जो टॉपर थी पढ़ने लिखने में और वह पढ़ लिख कर जीवन में कुछ करना चाहती थी। अपने परिवार का सहारा बनना चाहती थी, अपना नाम कमाना चाहती थी, लेकिन इससे पूर्व राक्षसों ने उसकी हत्या कर दी, और नितिका हत्या होने से पहले उन हत्यारों से भी संघर्ष करती रही ऐसी नारी शक्ति को हम लोग प्रणाम करते हैं, और आज मैं उन सभी राजनीतिक दलों से पूँछना चाहता हूं कि नितिका की हत्या पर वह लोग खामोश क्यों हैं, चुप्पी साधे क्यों हैं, हाथरस कांड पर राजनीतिक रोटी सेकने वाले, वोट बैंक की राजनीति में मुसलमानों के ऊपर वोट बैंक की राजनीत कर रहे हैं और आज इस मुसलमान का मामला आया तो सपा हो बसपा हो या कांग्रेस हो सब लोग चुप बैठे हुए हैं, मैं यह सवाल पूछना चाहता हूं कि क्या यही उन लोगों का चेहरा है जिन्होंने हाथरस कांड को लेकर एक हाईप्रोफाइल ड्रामा क्रिएट किये, और प्रदेश को दंगा में झोंकने का भी प्रयास किया गया और आज यह बल्लभगढ़ कान्ड पर खामोशी धारण किए हुए हैं। ऐसे लोगों का सामाजिक ही नहीं राजनीतिकी नहीं हर तरह से बहिष्कार होना चाहिए अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा युवा यह मांग करता है कि हत्यारों को जल्द से जल्द फांसी पर चढ़ाया जाए और परिवार वालों को समुचित सुरक्षा व्यवस्था मुहैया कराई जाए ताकि नीतिका के साथ न्याय हो सके। इस मौके पर सिद्धान्त सिंह करन, पुष्कर सिंह, वृजेश सिंह शेरू, विशाल सिंह, अभय सिंह, सुमीत सिंह, हैप्पी सिंह, सुजीत सिंह, तारकेश्वर सिंघम, मनीष सिंह, निलेश सिंह, धंन्जय सिंह, शुभम सिंह, मौजूद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here