दहशत के दम पर रंगदारी मांगने वाला कुख्यात गिरफ्तार

गाजीपुर- मुहम्मदाबाद इलाके में आतंक का पर्याय बनता जा रहा सुधांशु राय उर्फ आदित्य आखिर पुलिस के हत्थे लग ही गया। मोहम्मदाबाद तथा बरेसर पुलिस की संयुक्त कार्यवाही में शुक्रवार की शाम 2:30 बजे मुहम्मद कोतवाली के परसा गांव स्थित बरम बाबा के मंदिर के पास से वह पकड़ा गया ।उसके कब्जे से तमंचा तथा कारतूस मिला । कार्यवाही के वक्त मौका देखकर उसके 3 साथी फरार होने में कामयाब हो गए । पुलिस कप्तान सोमेन वर्मा ने शनिवार की दोपहर अपने कार्यालय में उसे मीडिया के सामने पेश किया । बीते 22 जुलाई की सुबह परसा चट्टी पर स्वर्णकार विनय वर्मा पर गोली दागने का आरोप है ।संजोग से दोनों गोलियां मिस हो गई ।विनय वर्मा ने इस मामले में सुधांशु तथा उसके अज्ञात साथी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी। विनय से उसने कुछ दिन पहले 5 लाख रूपये की रंगदारी मांगा था। विनय के इंकार करने पर वह चढ़ गया। विनय बाल कटवाने के लिए अपने गांव परसा की चट्टी पर जब पहुंचे उसी बीच सुधांशु तथा उसके साथी बाइक से पहुंचे और विनय पर दो गोलियां दागी। संयोग से उसके द्वारा दागी गयी दोनो गोलियां मिस्स होगयी। उसकी यह हरकत आसपास के लोगों ने जब देखा तो विनय की ओर लपके, लोगों को अपने तरफ आता हुआ देख कर दोनों भागने लगे । पुलिस कप्तान ने बताया कि हिमांशु के कब्जे से मिले तमंचे से ही उसने विनय वर्मा पर गोलियां दागी थी । सुधांशु मोहम्मदाबाद कोतवाली के रघुबरगंज उर्फ विशुनपुरा का रहने वाला है ।वह बकायदा गैंग बनाकर लूट, हत्या का प्रयास तथा रंगदारी के धंधे में लिप्त हैं। उसके खिलाफ कुल 7 मामले दर्ज है इनमें से अकेले मोहम्मदाबाद कोतवाली में 5 मामले दर्ज हैं शेष 2 मामले बरेसर में दर्ज है।

Also Read:  गाजीपुर-कौन है अमर ब्रदर्स और बीएचयू क्यों देता है इनके नाम से छात्रों को पुरस्कार