ये गाजीपुर है मेरी जान, यहां मुर्दे भी नोटिस रिसिव करते है

जमानियां तहसील क्षेत्र के ताड़ीघाट गांव निवासी राजेश दुबे ने पत्र के माध्यम आरोप लगाया कि कृषि योग्य भूमि को कब्जा करने के नियत से मेदनीपुर गांव निवासी एक दबंग चकबंदी के कर्मचारियों को मिलाकर मृत मां कमला देवी व भाई शशि को नोटिस भेजकर व फर्जी हस्ताक्षर करके करीब दो बीघा भूमि पर अपना नाम दर्ज करा लिया। जब चकबंदी अधिकारी से इसकी जानकारी ली गई तो पता चला कि भाई को बीते 21 अगस्त 2016 को तामिल बताया गया जबकि उसकी मृत्यु बीते 28 अक्टूबर 2012 में ही हो गई है। इसी तरह माता को भी उसी तिथि में नोटिस भेजकर तामिला दिखाई गई जबकि उनकी मृत्यु बीते 13 मई 2016 को हो चुकी है। पीड़ित ने आरोप लगाते हुए बताया कि मृतक लोगों को नोटिस तामिल कराकर न्यायालय चकबंदी को धोखा देने के साथ कर्मचारियों ने दबंग के साथ मिली भगत करके धोखाधड़ी व जालसाजी करने के काम किया। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि पूरे मामले की जांच कर न्याय की गुहार लगाई