वाह रे , गाजीपुर के जिला प्रशासन की गुंडागर्दी, आंगनबाडी कार्यकर्तियों से जबरन करायेगा बी.एल.ओ. का कार्य

image

गाजीपुर का जिला प्रशासन इस कदर गुंडागर्दी पर उतारू हो गया है कि आंगनबाडी कार्यकर्तियों के बार-बार मना करने पर भी जबरन बी.एल.ओ. का कार्य कराने पर आमादा है। शासनादेश संख्या -1252/60-2-10/1(14)/98 दिनांक 24-05-2010 तथा शासनादेश संख्या-1161/60-2-2013-2/1(23)/13 दिनांक 09-10-2013  स्पष्ट रुप से कहा गया है कि ” आंगनबाडी कार्यकर्तियो से बिभागीय कार्य ( ICDS) के अलावा अन्य कार्य न लिये जाय ‘” लेकिन गाजीपुर का जिला प्रशासन , उत्तर प्रदेश सरकार से भी अपने आप को बडा सबित करने मे लगा है। आंगनबाडी कार्यकर्तियो द्वारा बी.एल.ओ. का कार्य करने के लिये जब एस.डी.एम., तहसीलदार, डी.पी.ओ., सी.डी.पी.ओ. सुपरवाईजर से लिखित आदेश मांगने पर सब के सब भाग खडे हो रहे है। महिला आंगनबाडी के जिला संरक्षक सूरज प्रताप सिह ने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा निर्गत शासनादेश गाजीपुर के डी.एम., सभी एस.डी.एम. ,डी.पी.ओ. व सभी सी.डी.पी.ओ. को रजिस्टर्ड डाँक से भेजा जा चूका है फिर भी कोई मानने को तैयार नही है। इंटिग्रटेड चाईल्ड डेवलपमेंट स्कीम  ( ICDS) भारत सरकार की योजना है इस मे इस कदर भ्रष्टाचार कि कदम -कदम पर अंगनबाडी कार्यकर्तियो का शोषड होता है। सूरज प्रताप सिह ने बताया कि ईमानदारी से  ICDS मे व्याप्त भ्रष्टाचार की सी.बी.आई.से जाँच करा दिया जाय तो डाइरेक्टर से लेकर सुपरवाईजर तक को आत्महत्या करने की नौवत आ जायेगी।

Play Store से हमारा एप्प डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें Find us on Play Store